योद्धा महापंडित: राहुल सांकृत्यायन (भाग-3)

2 टिप्पणियाँ

योद्धा संन्यासी का जीवन 

पहला भाग यहाँ पढ़ें     दूसरा भाग यहाँ पढ़ें


अपने सत्तर वर्ष के जीवन में वे निरंतर सक्रिय रहे और एक साथ कई मोर्चों पर! हर मोर्चे पर उनका एक खास मकसद दिखाई देता है। भारतीय इतिहास के अत्यंत महत्वपूर्ण कालखंड में उन्होंने अपना लेखन कार्य शुरू किया। भारत की स्वाधीनता का आंदोलन प्रथम विश्व युद्ध के बाद तेज हुआ और उसमें विभिन्न धाराओं का संघर्ष ज्यादा स्पष्ट दिखाई देने लगा। समाज सुधार की धारा बंगाल से विकसित हुई जिसका प्रभाव संपूर्ण देश के बुद्धिजीवियों पर पड़ा। राहुल ने अपना जीवन समाज सुधारक संन्यासी के रूप में शुरू किया; यह महज एक संयोग नहीं। वे प्रेमचंद की तरह आर्यसमाज के प्रभाव में आए और फिर कांग्रेस से भी प्रभावित हुए। लेकिन प्रेमचंद की ही तरह उनका इन धाराओं से मोहभंग भी हुआ। फिर उन्होंने पतनोन्मुख भाववाद के विरुद्ध बौद्ध दर्शन को एक वैचारिक-आधार के रूप में ग्रहण किया। भारतीय समाज की संरचना, जाति, वर्ण और वर्ग की विशिष्टता एवं शोषण के विभिन्न रूपों की जटिलता आदि तमाम सवालों से लगातार जूझते रहे। इनका समाधान उन्हें मार्क्सवादी दर्शन में दिखाई पड़ा। वैज्ञानिक चेतना और समग्र विश्वदृष्टि के लिए अनवरत आत्मसंघर्ष उनकी प्रारंभिक रचनाओं में खुलकर व्यक्त हुआ है। ज्ञान की पिपासा और निरंतर कार्य करने की बेचैनी उनके व्यक्तित्व की विलक्षण विशेषताएँ हैं। उनका मानना था कि ज्ञान, विचार द्वारा वस्तु को जानने की एक चिरंतन तथा अंतहीन प्रक्रिया है और ज्ञानात्मक चेतना मनुष्य के सामाजिक अस्तित्व से निर्धारित और प्रभावित होती है।

साहित्य-दर्शन और इतिहास के बारे में राहुल जी का यह परिप्रेक्ष्य क्रमश: विकसित होता गया। उन्होंने अपने जीवन काल में जो कुछ लिखा, उसमें समाज को समझने, समझाने और उसे बेहतर रूप में बदलने की बौद्धिक कोशिश दिखाई देती है। इस क्रम में अगर उनसे कहीं कोई गलती या किसी खास विश्लेषण में यांत्रिकता दिखाई देती है तो इसके पीछे उस युग की बौद्धिक संरचना की अपनी सीमाएँ भी हैं। फिर राहुल जैसे विराट रचनाफलक वाले लेखक के साथ तो यह और भी सहज है पर रचना के स्तर पर उनकी वैचारिक तेजस्विता, मौलिक प्रतिभा और प्रतिबद्धता बेमिसाल है।

उनकी रचनात्मकता तीन मोर्चे पर सक्रिय दिखाई देती है। एक तरफ वह जीवन और समाज की वैज्ञानिक दृष्टि से पड़ताल करती है, दूसरी तरफ वह जीवन में हस्तक्षेप करते हुए आम जनता के मानसिक स्तर को उन्नत करने के प्रयास से प्रेरित है और तीसरे मोर्चे पर वह जनता की सांस्कृतिक जरूरत को पूरा करने की जिम्मेदारी निभाते हुए जन-साहित्य की परंपरा को समृद्ध करती है। समाज और जीवन के सरोकारों और समकालीन सामाजिक समस्याओं पर अपनी बेबाक राय जाहिर करते हुए कई बार वे प्रचार-साहित्य और अभियानी-लेखन के स्तर पर भी उतरे। लेकिन यहाँ भी उनका स्तर उतना ही उच्च है, जितना अपने सृजनात्मक साहित्य में! तुम्हारी क्षय”, “क्या करें”, “साम्यवाद ही क्यों?”, “भागो नहीं दुनिया को बदलो”, “तीन नाटक”, और रामराज्य और मार्क्सवाद जैसी पुस्तकें इसका उदाहरण हैं।
राहुल जी की जनपक्षधरता और तीव्र अन्वेषणात्मक प्रतिभा विवादों से परे है। अपने लेखन कार्यकाल के 34-35 वर्षों में उन्होंने लगभग 50 हजार पृष्ठों का साहित्य प्रकाशित किया। अभी भी उनकी कुछ पाण्डुलिपियाँ अप्रकाशित हैं। अपने सक्रिय जीवन की समस्त संभावनाओं का उन्होंने भरपूर उपयोग किया। एक बार किसी मित्र ने उनकी इस बात के लिए आलोचना कर दी कि आप हमेशा काम में जल्दबाजी दिखाते हैं। इतना लिखते हैं कि जल्दबाजी के कारण कई काम पूर्णता को नहीं छू पाते। इस पर राहुल जी ने बुद्ध को उद्धृत किया—“बुद्ध कह गए हैंसब्बम् खनिकम् (सब कुछ क्षणिक है) और फिर लेनिन ने भी कहा है कुछ भी अन्तिम नहीं है। इसलिए मैं नहीं मानता कि कोई भी मनुष्य पूर्ण है। मैंने कोई सत्य का एकाधिकार नहीं रखा है। मैं अपना काम करता हूँ। भावी पीढी आएगी और मेरे काम को सुधारेगी।
राहुल सांकृत्यायन के महान क्रांतिदर्शी कार्यकर्ता बहुत सारे लोग आज भी अनभिज्ञ हैं। कम लोगों को मालूम है कि वे बिहार में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक सदस्य थे। 20 अक्टूबर, 1939 ईo को जब बिहार में भाकपा की इकाई गठित हुई तो पहली स्थापना बैठक में उपस्थित कुल 19 लोगों में एक राहुल जी भी थे। वे किसान आंदोलन के सक्रिय कार्यकर्ता थे। स्वामी सहजानंद सरस्वती, कार्यानन्द शर्मा और राहुल सांकृत्यायन बिहार प्रांतीय किसान सभा के शलाका पुरुष माने जाते हैं। सन् 1939 ईo के शुरू में ही किसान सभा ने राहुल जी को छपरा जिले के किसान संघर्षों को संगठित करने की जिम्मेदारी सौंपी। फरवरी, ’39 में वे छपरा गए और वहाँ  आंदोलन का नेतृत्व करते रहे। अमवारी नामक एक गाँव में ब्रिटिश हुकूमत द्वारा संरक्षित जमींदारों के एक गिरोह ने उन पर कातिलाना हमला कराया। 20 फरवरी, सन् 1939 को उन्हें गाँव के बाहर खेत में पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। फिर इसी हालत में पुलिस उन्हें जेल ले गई। इस घटना की सूचना जंगल में आग की तरह बिहार और फिर देश भर में फैल गई। उस वक्त के अखबारों ने भी इस घटना पर विस्तृत खबरें छापीं। रामवृक्ष बेनीपुरी और प्रोo मनोरंजन ने इस पर कई रचनाएँ लिखीं। जेल के अन्दर भी राहुल जी ने आंदोलन छेड़ दिया। उन्होंने किसान क्रांतिकारियों को राजनैतिक कैदी का दर्जा दिलाने की माँग को लेकर भूख हड़ताल भी की। 1 अप्रैल, 1939 ईo को संपूर्ण बिहार में राहुल पर हमला विरोधी दिवस मनाया गया। वे सन् 1940 ईo में किसान सभा के प्रांतीय अध्यक्ष चुने गए। इसी वर्ष अखिल भारतीय किसान सभा के पाँचवे अधिवेशन (जो आंध्रप्रदेश के पलासा में होने वाला था) के लिए उन्हें सभापति भी मनोनीत किया गया। राहुल जी के जीवन और कर्म में सिद्धान्त और व्यवहार की जैसी एकरूपता दिखाई देती है वह सचमुच बेमिसाल है।
एक अध्यापक के रूप में उन्होंने सोवियत संघ के लेनिनग्राद में दो वर्षों तक कार्य किया। सन् 47 ईo में स्वदेश लौटे तो यहाँ हिन्दी साहित्य सम्मेलन के बंबई अधिवेशन के सभापति बनाए गए। सन् 47-48 ईo में भाषा-विवाद को लेकर कम्युनिस्ट पार्टी से उनके गहरे मतभेद हुए। बंबई में साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष के रूप में दिए भाषण पर भाकपा-नेतृत्व को घोर आपत्ति थी। इस प्रकरण को लेकर वे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से अलग कर दिए गए। लेकिन सदस्यता से वंचित रहने की स्थिति में भी वह भाकपा और उसकी राजनीतिक गतिविधियों का निरंतर समर्थन और सहयोग करते रहे। फरवरी, सन् 1955 ईo में फिर से कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गए। निधन के समय तक कम्युनिस्ट बने रहे।
उन्होंने कमलाजी से विवाह किया। सन् 1953 और 55 ईo में क्रमश: पुत्री जया और पुत्र जेता पैदा हुए। सन् 50 ईo में ही मसूरी में घर बसाया। लेकिन वह कहीं रुकने वाले कहाँ थे? सन् 58 ईo में फिर चीन गए। सन् 59 ईo में आए और मसूरी छोड़ दार्जिलिंग बसे। इसी वर्ष उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। फिर सन् 59-61 ईo के दौरान वे श्रीलंका में दर्शनशास्त्र के महाचार्य रहे।
सन् 1961 ईo के दिसम्बर महीने में स्मृति लोप का आघात हुआ और वे बिस्तर पर पड़ गए। एक महान् क्रांतिदर्शी लेखक यायावर और आंदोलनकारी के पाँव ठिठक गए। लगातार चलते ही रहने वाले इस विराट व्यक्तित्व के सामने मौत आ खड़ी हुई। सोवियत संघ में सात महीने तक चिकित्सा हुई। लेकिन 14 अप्रैल, 1963 का दिन आ पहुँचा।
जीवन और सृजन के प्रति उनकी अदम्य जिजीविषा आगे आने वाली पीढ़ियों को अनवरत काल तक प्रेरणा देगी। डॉo प्रभाकर माचवे ने उनके विपुल सृजनात्मक साहित्य के विषय की विविधताओं और विस्तार पर आश्चर्य प्रकट करते हुए लिखा है—“तिब्बत जैसे वर्जित प्रदेश की दुर्गम यात्राओं की बाधाओं और राष्ट्रीय आंदोलन के राजनैतिक संघर्ष में कारावास की कठिनाइयों के बावजूद उन्होंने इतने ग्रंथ कैसे रचे ?”1 छह फुट लंबी स्वस्थ और सुंदर देहयष्टि वाले राहुल ने तेरह-चौदह वर्ष की अवस्था से मृत्यु तक लगातार संघर्ष किया। समाज और मानव जीवन की बेहतरी के लिए निरंतर प्रयत्नशील रहे। अपने जीवन के किसी भी पल को व्यर्थ गुजरने नहीं देना चाहते थे, हर समय किसी न किसी योजना में लगे रहते।
वे आजीवन एक महान् बौद्धिक-योद्धा की तरह असत्य, अन्याय और अंधविश्वास से जूझते रहे। बौद्धदर्शन से मिली रोशनी ने उनके मार्क्सवादी विचारक को पैनी दृष्टि और तीक्ष्ण तर्क-शक्ति दी। उनका मानना था कि मार्क्सवाद को भारतीय समाज की ठोस परिस्थितियों में ठोस ढंग से लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने भारतीय समाज में व्याप्त सामंती मूल्यों, जातिवाद-संप्रदायवाद और इन्हें सैद्धांतिक जामा पहनाने के ब्राह्मणवादी चिंतन का घोर विरोध किया। इतिहास की व्याख्या के क्रम में उन्होंने जाति-प्रथा का जमकर विरोध किया और इसे समाज की ऐसी विकृति के रूप में चिन्हित किया जो मानव संबंध और सामाजिक आर्थिक विकास की प्रक्रिया को क्षति पहुँचा रही है। उनका मानना था कि जन्म के आधार पर इस प्रकार का विभाजन झूठा और नितांत समाज विरोधी है। पूर्वजों द्वारा समाज के व्यवस्थित संचालन के लिए कर्म के आधार पर चार वर्णों में विभाजित व्यवस्था की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा—“कार्य विभाजन की यह प्रणाली अपनी उपयोगिता खोकर झूठे भेद-भाव के गर्त में जा पड़ी है। उन्होंने यहाँ तक कहा—“जब तक जाति-पाति की व्यवस्था समाप्त नहीं होगी भारत के विकास के लिए किए गए सभी प्रयत्न अपूर्ण रहेंगे।2
राहुल जी सामाजिक विषमताओं, धर्म एवं संप्रदाय से जुड़ी कुरीतियों, ब्राह्मणवादी चिंतन की जनविरोधी चालबाजियों, मायावाद, रहस्यवाद और पुनर्जन्मवाद पर प्रहार करते हुए भारतीय दर्शन की विभिन्न धाराओं की व्याख्या करते हैं। वे इन दार्शनिक धाराओं के वर्गीय सरोकारों की शिनाख्त करते हैं। चलताऊ जार्गनवाद(जागरणवाद ही होना चाहिए शायद – प्रस्तुतकर्ता)  का सहारा लेने के बजाय बड़े सहजग्राह्य ढंग से इनकी व्याख्या करते हैं। अंधविश्वासों पर प्रहार करते हुए वह भारतीय इतिहास के जाने-पहचाने घटनाक्रमों से उदाहरण भी देते हैं कौटिल्य के अर्थशास्त्र को देखने से साफ पता चलता है कि हजारों प्रकार के मिथ्या विश्वास, जिन्हें इस बीसवीं शताब्दी में ब्रह्मविद्या, योग और महात्माओं का चमत्कार कहकर सुशिक्षित लोग प्रचारित करना चाहते हैं, उन्हें मौर्य-साम्राज्य का यह महान् राजनीतिज्ञ झूठा समझता है।
इस महान् रचनाकार के जीवन और कृतित्व की विविधता, गंभीरता और गहराई को देखकर सचमुच आश्चर्य होता है कि इतना सारा काम करने के लिए वह अपने समय का समायोजन कैसे कर लेते थे। वह एक स्वाधीनता सेनानी थे, एक क्रांतिदर्शी किसान नेता और एक कम्युनिस्ट नेता, उपन्यासकार-कहानीकार, गीतकार-नाटककार, निबंधकार, दार्शनिक-विचारक, इतिहासकार और पुरातत्ववेत्ता थे। इन क्षेत्रों में किए गए उनके काम असाधारण महत्व के साबित हुए। ऐसा लगता था मानो वे हर चुनौतीपूर्ण इच्छित काम को समाप्त करने की जल्दी में थे। पूरी उम्र को उन्होंने सार्थक बनाया और 21 वर्षीय राम ओदार साधू से 69 वर्षीय राहुल सांकृत्यायन के जीवन के एक-एक मिनट का उन्होंने उपयोग किया।
उनके रचना-कर्म और जीवन-कर्म का सबसे प्रमुख लक्ष्य समाज-परिवर्तन और मनुष्य की वास्तविक मुक्ति के महान् आदर्शों से अनुप्राणित था। कम लोगों को मालूम है कि मार्क्स-ऐंग्लिस (ऐंगिल्स प्रस्तुतकर्ता) के कम्युनिस्ट मैनिफेस्टो को हिन्दी में लाने का पहला प्रयास राहुल सांकृत्यायन और आचार्य नरेंद्र देव ने संयुक्त रूप से किया। सन् 1931 ईo में राहुल जी और नरेंद्र देव ने मिलकर इस ग्रंथ का हिन्दी अनुवाद किया। महान् कथाकार प्रेमचंद ने इन्हें प्रेरित किया। हिन्दी रूपान्तरण प्रेमचंद के ही प्रेस में छप रहा था। प्रेस पर पुलिस ने छापा डाला। कई और परेशानियों के कारण वह छप नहीं सका। इस बात की चर्चा स्वयं राहुल जी ने प्रेमचंद स्मृति शीर्षक अपने एक लेख में की है। उन्होंने अपनी दर्जनों पुस्तकों और पुस्तिकाओं (बुकलेट) के माध्यम से हिन्दी भाषी प्रदेशों की कई पीढ़ियों को मार्क्सवादी दर्शन और विचारधारा की ओर प्रेरित किया। आने वाली पीढ़ियाँ भी उनके साहित्य को पढ़कर सामाजिक बदलाव और मानव मुक्ति के महान् उद्देश्यों से अपने को जोड़ती रहेंगी। राहुल जी के प्रिय सहयोगी रहे, हिन्दी के कवि बाबा नागार्जुन ने उनकी महान् उपलब्धियों का इन शब्दों में मूल्यांकन किया है “….कितना विचित्र वह व्यक्ति है जिसे किसानों ने अपनी संस्था का प्रमुख चुना, प्रगतिशील लेखकों ने जिसको अपना पथ-प्रदर्शक घोषित किया और अब हिन्दी जगत् के साहित्यिकों ने जिसे अपने महासम्मेलन का अध्यक्ष निर्वाचित किया है।
1. राहुल सांकृत्यायन : प्रभाकर माचवे, पृष्ठ 27
2. मानव समाज: राहुल सांकृत्यायन, पृष्ठ 106

योद्धा महापंडित: राहुल सांकृत्यायन (भाग-2)

8 टिप्पणियाँ

योद्धा संन्यासी का जीवन

महापंडित राहुल सांकृत्यायन एक महान् रचनाकार, अन्वेषी इतिहासकार और जनयोद्धा थे। भारतीय नवजागरण की चेतना के इस महान् अग्रदूत ने हिन्दी भाषा और साहित्य को प्रगतिशील और प्रौढ़ वैचारिक मूल्यों से जोड़ते हुए एक नई रचना-संस्कृति विकसित की। व्यक्तित्व की तरह उनका रचना-संसार भी व्यापक और बहुआयामी है। सचमुच, आश्चर्य होता है कि किशोरवय में ही घर-बार छोड़कर संन्यासी बन गये राहुल व्यवस्थित शिक्षा-दीक्षा और समय एवं सुविधा सम्बन्धी कठिनाइयों के बावजूद इतने महान् रचनाकार और बुद्धिजीवी कैसे बने!
जिज्ञासा और संघर्ष की प्रखर चेतना ने साधारण परिवार में जन्में बालक केदारनाथ को राहुल सांकृत्यायन के रूप में विकसित किया। ग्यारह वर्ष की अवस्था से शुरु हुई उनकी ज्ञान-यात्रा स्मृति लोप होने तक जारी रही। बुद्ध के इस वचन को उन्होंने हमेशा अपने जीवन-संघर्ष का एक महत्वपूर्ण सूत्र माना –“मैंने ज्ञान को अपने सफर में नाव की तरह लिया है, सिर पर एक बोझ की तरह नहीं।

 उनका जन्म आजमगढ़ (उत्तरप्रदेश) जिले के पंदाहा गाँव, अपने नाना के घर रविवार, 9 अप्रैल, 1893 ईo को हुआ। पिता गोवर्द्धन पाण्डेय कनैला गाँव के रहने वाले थे। जन्म के समय उनकी माता कुलवंती देवी अपने मायके आई हुई थीं। नाना ने उनका नाम केदारनाथ रखा। वह चार भाइयों और एक बहन में सबसे ज्येष्ठ थे। बालक केदारनाथ को सन् 1898 ईo में मदरसे में दाखिल कराया गया। सन् 1900 ईo में आस-पास के कई गाँवों में हैजे की बीमारी फैली। गाँव का एक साथी बिरजू हैजे का शिकार हुआ। राहुल जी पर अपने मित्र की मृत्यु का शोक काफी दिनों तक छाया रहा। जनेऊ के लिए नाना रामशरण पाठक सन् 1902 ईo में उन्हें विंध्याचल ले गए। भविष्य के महान् यायावर और पर्यटक की संभवत: यह पहली यात्रा थी। उन्होंने पहली बार पहाड़ के दर्शन किए। सन् 1904 ईo में 11 वर्ष की अवस्था में परिवार वालों ने उनकी शादी कर दी। बालक केदारनाथ को यह सब तमाशा सा लगा। इस बारे में इन्होंने लिखा है—“उस वक्त ग्यारह वर्ष की अवस्था में मेरे लिए यह तमाशा था। जब मैं सारे जीवन पर विचारता हूँ तो मालूम होता है कि समाज के प्रति विद्रोह का प्रथम अंकुर पैदा करने में उसने ही पहला काम किया। सन् 1908 ईo में जब मैं पंद्रह साल का था, तभी से मैं उसे शंका की नजर से देखने लगा था। सन् 1908 ईo के बाद से तो मैं गृहत्याग का बाकायदा अभ्यास करने लगा, जिसमें भी इस तमाशे का थोड़ा-बहुत हाथ जरूर था। माँ कुलवंती देवी पहले ही चल बसी थीं। मृत्यु के समय उनकी उम्र मात्र 28 साल की थी। माँ के मर जाने के बाद राहुल का ननिहाल में पालन-पोषण हुआ था।
सन् 1907 ईo आते-आते राहुल का घर-परिवार से मोहभंग-सा होने लगा। इसी वर्ष वे पहली बार घर से भागे और कलकत्ता पहुँचे। फिर दूसरी बार सन् 1909 ईo में कलकत्ता गए। वहाँ कई तरह के काम किए। बनारस के सुँधनी साहू की वहाँ एक बड़ी दुकान थी। राहुल को उसमें नौकरी मिली। इस बीच वह बनारस भी रहे। सन् 1910 ईo के बाद से ही घुमक्कड़ी और सधुक्कड़ी उनके जीवन में रचबस गई। इस घुमक्कड़ संन्यासी का नाम पड़ा- राम ओदार दास। सन् 1911-12 ईo में पंडित मुखराम के यहाँ उनकी भेंट परसा मठ (छपरा) के महंत रामकुमार दास से हुई। वे मठ में रहने लगे और सन् 1912-13 ईo में महंत के उत्तराधिकारी तय किए गए। इस बीच एक बार वे कनैला-पंदाहा भी गए। लोगों ने बहुत फटकारा लेकिन कुछ ही दिनों बाद वे फिर परसा मठ पहुँच गए। लेकिन धीरे-धीरे मठ के बँधे-बँधाए जीवन की यांत्रिकता से वे ऊबने लगे। सन् 1913-14 ईo में उन्होंने दक्षिण भारत की लंबी यात्रा की। जुलाई, 1913 ईo में उन्होंने परसा मठ छोड़ा। आसनसोल, आद्रा, खड्गपुर होते हुए वे पुरी और फिर मद्रास पहुँचे। तिरूमलै भी गए। उन्होंने यहाँ तमिल सीखी। फिर तिरुपति कांजी कांचीपुरम् और रामेश्वरम् गए। सन् 1914 ईo में एक बार फिर परसा मठ लौटे। कुछ दिनों तक यहाँ रहने के बाद वे अयोध्या गए। इसी दौरान वे आर्य समाज के प्रभाव में आए। तब तक उन्होंने वेदांत का अध्ययन कर लिया था। इस इलाके में बलि चढ़ाने की परंपरा थी। काली मंदिर में बकरे की बलि देने के विरोध में उन्होंने एक जोरदार व्याख्यान दिया। सनातनी पुरोहितों ने उन्हें लाठियों से पीटा। वे एक युवा नास्तिक-आर्य समाजी संन्यासी के रूप में चर्चित हो चुके थे। फिर उन्होंने आगरा में रहते हुए संस्कृत, अरबी के धर्म ग्रंथों और इतिहास का अध्ययन किया। मेरठ से छपने वाले भास्कर में राहुल जी का पहला लंबा लेख इसी दौरान छपा। वह ढोंगी साधुओं के खिलाफ था। सन् 1916 ई में वे लाहौर गए और वहाँ संस्कृत एवं अरबी ग्रंथों का विशद् अध्ययन किया। सन् 1917 ईo में रूसी क्रांति हुई। उसकी खबरें राहुल जी रुचि के साथ पढ़ते। सन् 1918 ईo में उन्होंने साम्यवादी दर्शन का अध्ययन शुरु किया। उस वक्त इस बारे में बहुत कम साहित्य उपलब्ध था। सन् 1921-22 ईo में रूस के तत्कालीन कम्युनिस्ट नेता ट्राटस्की की प्रसिद्ध पुस्तक बोल्शेविज्म एवं विश्वक्रांति पढ़ने को मिली। 29 अक्टूबर, 1922 ईo को वे कांग्रेस के जिला सचिव चुने गए। फिर उन्होंने नेपाल की यात्रा की। यहाँ बौद्ध विद्वानों, लामाओं और भिक्षुओं से ज्ञान प्राप्त किया।
राहुल जी ने संन्यासी जीवन में ज्ञानार्जन किया और इस ज्ञान ने उन्हें समाज और राजनीति से जोड़ा। 11 जनवरी, 1922 ईo को छपरा जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक के दौरान उन्हें गिरफ्तार किया गया। बक्सर जेल में रहे। रिहा होने के बाद यात्रा पर निकले। लौटने पर आंदोलन छिड़ा और और फिर जेल गए। अप्रैल, सन् 1923 ईo में उन्हें हजारीबाग जेल में भेजा गया। जेल प्रवास के दौरान उन्होंने बाईसवीं सदी नामक पुस्तक की रचना की। उनका जेल जाना, जेल में अध्ययन-लेखन, बाहर निकलकर आंदोलनों में शामिल होना और फिर जेल जाने का सिलसिला निरंतर जारी रहा।
18 अप्रैल, 1925 ईo को दो वर्ष की सजा भुगतकर हजारीबाग जेल से रिहा हुए। इस वक्त तक यह विद्वान संन्यासी बिहार में ब्रिटिश हुकूमत के लिए सिरदर्द बन चुका था। प्रशासन ने उन्हें आंदोलनकारी नेता के रूप में चिन्हित कर लिया था। सन् 1926 ईo में वे कानपुर कांग्रेस के लिए प्रतिनिधि और आल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सदस्य बने। उसी वर्ष उन्होंने तिब्बत की यात्रा की। फिर गोहाटी कांग्रेस में भाग लिया।
सन् 1922 ईo से 37 के बीच के वर्ष राहुल जी के जीवन और चिंतन के विकास की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने जीवन-जगत, दर्शन, राजनीति और धर्म का गहरा अध्ययन किया। सन् 1930-31 ईo आते-आते वे अनीश्वरवादी हो गए। बौद्ध-दर्शन ने उन्हें गहरे सार तक प्रभावित किया। इसके अध्ययन के क्रम में वे तिब्बत, श्रीलंका और चीन गए। सन् 1927-28 ईo में उन्होंने श्रीलंका में अध्ययन और अध्यापन किया। सन् 1929-30 ईo के दौरान सवा साल उन्होंने तिब्बत में बिताए। सन् 30 ईo में भारत के लिए रवाना होने से पहले पुस्तकें, चित्रपट और अन्य महत्वपूर्ण चीजें बाँधकर खच्चरों के माध्यम से कलिंगपोंग रवाना कर दिया। अब वे रामओदार साधु से राहुल सांकृत्यायन बन गए। श्रीलंका स्थित विद्यालंकार विहार में बौद्ध भिक्षु के रूप में दीक्षित होने के बाद यह नया नाम मिला।
सन् 1932-33 ईo में वे यूरोप की यात्रा पर रहे। सन् 1934 ईo में दुबारा तिब्बत गए। वे कम्युनिस्ट-दर्शन के नज़दीक आ गए। इंग्लैंड-प्रवास के दौरान वे डेली-वर्कर नामक पत्र नियमित पढ़ते थे। उस वक्त अपने राजनीतिक चिंतन में आए परिवर्तन को उन्होंने स्वयं ही रेखांकित किया है मैं कम्युनिस्ट पार्टी का मेम्बर नहीं था लेकिन लेनिन-स्टालिन की पार्टी को छोड़ मैं किसी के विचारों और कार्यप्रणाली को पसन्द नहीं करता था। सन् 35 ईo में उन्होंने जापान, कोरिया, मंचूरिया, ईरान और सोवियत संघ की यात्रा की। सन् 1936 ईo में तीसरी बार तिब्बत गए। फिर 1937 ईo में दूसरी बार सोवियत संघ जा पहुँचे। सन् 1936-37 ईo के दौरान उन्होंने गांधीवाद और साम्यवाद और जमींदारी-प्रथा जैसे लेख लिखे। सोवियत संघ में उनकी मुलाकात लोला (पूरा नामएलेना नर्वेर्तोवना कोजैरोवस्काया) नामक प्रबुद्ध महिला से हुई। वह अंग्रेजी, फ्रेंच, रूसी और मंगोल भाषाएँ बोल सकती थीं। उन्होंने लोला से रूसी सीख ली और उसे संस्कृत सिखाया। राहुल ने लोला से विवाह कर लिया और 5 सितम्बर, 1938 ईo को एक पुत्र ईगोर का जन्म हुआ। लेकिन जन्म से पहले ही राहुल स्वदेश लौट आए। लोला नहीं आ सकी।
यहाँ आने पर उन्होंने कई स्थानों पर आन्दोलन में भाग लिया। कांग्रेस से उनका पूरी तरह मोहभंग हो चुका था। सन् 1938-39 ईo में अमवारी के किसानों का नेतृत्व किया। बड़हिया रेवड़ा और गया के किसान आन्दोलन में भी भाग लिया। फरवरी, 1939 ईo में अमवारी आन्दोलन के दौरान उन पर प्राणघातक हमला हुआ और जेल भेजे गए। जेल-प्रवास में उन्होंने तुम्हारी क्षय लिखी। 10 मई को जेल से रिहा हुए। छितौली किसान आन्दोलन में भाग लेते वक्त फिर गिरफ्तार हुए और हजारीबाग जेल भेजे गए। जेल में अनशन कर दिया। अनशन के 17वें दिन उन्हें रिहा किया गया।
सन् 1940 ईo में उन्हें प्रान्तीय किसान सभा का सभापति चुना गया। उधर रामगढ़ कांग्रेस के लिए प्रतिनिधि और प्रान्तीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य चुने गए। मार्च महीने में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और हजारीबाग से देवली कैंप जेल भेजे गए। यहीं पर उन्होंने कम्युनिस्ट क्रान्तिकारियों के साथ 23 अक्टूबर, 1941 ईo से इतिहास प्रसिद्ध भूख हड़ताल की।
इस दौरान उन्होंने अपनी पुस्तकें—“दर्शन-दिग्दर्शन, विश्व की रूपरेखा, मानव समाज, वैज्ञानिक भौतिकवाद, बौद्धदर्शन लिखीं। राहुलजी दो दर्जन से अधिक भाषाओं के ज्ञाता थे पर उन्होंने आमतौर पर हिन्दी में ही लिखना पसंद किया। प्रख्यात कम्युनिस्ट नेता और उनके सहकर्मी रहेरमेश सिन्हा, अली अशरफ और इंद्रदीप सिन्हा के अनुसार वे 34 भाषाएँ जानते थे। मित्र और सहयोगी रहे डॉo प्रभाकर माचवे ने भी लिखा है—“वे 34 से अधिक भाषाओं के ज्ञाता थे। यह जानकर विस्मय होता कि कैसे उन्होंने इतनी भाषाएँ सीखीं!

(जारी…)

योद्धा महापंडित: राहुल सांकृत्यायन (भाग-1)

4 टिप्पणियाँ

राहुल सांकृत्यायन भारत ही नहीं संसार के लेखन-जगत में एक अलग और महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। एक साथ बहुत से क्षेत्रों में असाधारण विद्वत्ता के स्वामी लेखकों और चिंतकों में उनका नाम पहली पँक्ति के लेखकों-चिंतकों में भी शायद सबसे पहले ही लिया जा सकता है। रामकृष्ण परमहंस को सब धर्मों की उपासना के लिए जाना जाता है लेकिन एक चेतन यात्रा का जो दर्शन राहुल जी में होता है, वह परमहंस में नहीं। राहुल जी की यात्रा एक सगुणोपासक संन्यासी से निर्गुणोपासक तक और फिर बौद्ध से मार्क्स तक आती है। ऐसी यात्रा का दूसरा उदाहरण और वह भी इस अन्दाज में कि मनुष्य और समाज की समझ विकसित होती जाये, शायद ही है।

आज से यहाँ उनके उपर उर्मिलेश की किताब को प्रकाशित किया जा रहा है। अन्त में उसे पीडीएफ़ में उपलब्ध करा दिया जाएगा। आज किताब में शुरु में दिए गए वक्तव्य और भूमिका से शुरु करते हैं।


योद्धा महापंडित:

राहुल सांकृत्यायन

लेखक- उर्मिलेश

बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्, पटना
प्रकाशन वर्ष- 1994


वक्तव्य

महामंडित राहुल सांकृत्यायन इस शताब्दी के अनुपमेय साहित्यकार, चिंतक और भारत के अतीत-प्रसंगों के समय-सापेक्ष व्याख्याता थे। उनका बहुआयामी व्यक्तित्व प्रगतिशील चेतना के सतत विकास का साक्षी है। उनके विकासमान व्यक्तित्व के विश्लेषण से कई महत्वपूर्ण तथ्य सामने आते हैं। रूढ़ियों, अंधविश्वासों से जर्जर एक पिछड़े हुए गाँव के सनातनी ब्राह्मण-परिवार में जन्म लेकर अपनी जीवन-यात्रा के अनुभवों से सीखते हुए वह मार्क्सवाद तक पहुँचते हैं। संपूर्ण भारतीय रचनाकर्म और संघर्ष की सहयात्रा में वे उत्तुंग शिखर पर आसीन एक अद्वितीय व्यक्तित्व हैं।
उनके साहित्य में स्वतंत्रतापूर्व और स्वातंत्र्योत्तर भारत के कसकते-कराहते अनुभवों का ऐसा हाहाकार है, जो हमें सोचने को विवश करता है कि विवशता के भीतर से ही शक्ति उत्पन्न होती है। राहुलजी ने रचनात्मक साहित्य, अनुवाद, कोश, जीवनियाँ, संस्कृति, राजनीति, इतिहास, दर्शन और यात्रा-साहित्य आदि अनेक विषयों पर प्रामाणिक रचनाएँ लिखकर हिन्दी साहित्य को समृद्ध किया। उनकी मूल चिंता अपने समय और समाज को समझने तथा भविष्य की दिशा निर्धारित करने की थी। समय और समाज के इसी द्वन्द्व ने उनके चिंतन और संघर्ष को अर्थदीप्ति प्रदान की है। आर्थिक गुलामी को वह सभी प्रकार की स्वतंत्रता का अवरोधक मानते थे और पूँजीवादी व्यवस्था के पोषक तत्वों को जोंक कहते थे। प्रत्यक्ष-जगत से परे मनुष्य के भाग्य का निर्णायक और नियामक कोई और सर्वशक्तिमान नहीं है- ऐसा उनका मानना था। बौद्ध धर्म और दर्शन से उनका लगाव इसी सोच के कारण हुआ।
राहुलजी का जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ था लेकिन बिहार ही उनका कार्यक्षेत्र रहा। यहीं सारण के परसामठ में वह सनातनी साधु के रूप में रहे फिर बौद्ध और मार्क्सवादी बने। इसी क्षेत्र में उन्होंने किसान-संघर्षों का नेतृत्व किया। महान् इतिहासविद् काशी प्रसाद जायसवाल से उनका स्नेहपूर्ण सम्बन्ध रहा। बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् से शुरु से ही उनका लगाव रहा। परिषद् को उनके द्वारा लिखित या संपादित चार प्रमुख पुस्तकों के प्रकाशन का गौरव प्राप्त है। मध्य एशिया का इतिहास जैसी युगांतरकारी कृति परिषद् ने ही प्रकाशित की, जिस पर उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस वर्ष पूरे देश में राहुल जन्म-शती के अवसर पर समारोह हुए हैं। बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् ने भी 10 अगस्त, 1993 को पटना में एक भव्य समारोह आयोजित किया था। प्रस्तुत विनिबंध योद्धा महापंडित: राहुल सांकृत्यायन जन्मशती वर्ष पर उर्मिलेश द्वारा पठित आलेख का विस्तारित पुस्तकाकार रूप है।
श्री उर्मिलेश ख्यातिप्राप्त पत्रकार और सजग लेखक हैं। अभी हाल में द टाइम्स फेलोशिप कौंसिल ने उन्हें वर्ष 1993 की टाइम्स फेलोशिप देकर सम्मानित किया। इसके पूर्व बिहार कृषि-संकट और भूमि-सुधार सम्बन्धी समस्या पर उनकी पुस्तक बिहार का सच (प्रकाशन वर्ष 1991) आई थी और वह समाजशास्त्रियों और शोध-छात्रों के बीच चर्चित और प्रशंसित हुई। जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय, नई दिल्ली ने वर्ष 1981 में उन्हें राहुल सांकृत्यायन के साहित्य की आलोचनात्मक अनुक्रमणिका विषय पर एम0 फिल0 उपाधि प्रदान की। पहल, समकालीन सृजन, हिन्दी कलम और नवभारत टाइम्स में प्रकाशित राहुल विषयक उनके आलेख चर्चित रहे।
योद्धा महापंडित : राहुल सांकृत्यायन शीर्षक इस विनिबंध में राहुलजी के जीवन और कृतित्व की संक्षिप्त किन्तु मौलिक व्याख्या की गई है। राहुलजी की वैचारिक पूँजी को सहेज-संभालकर रखना आज इसलिए भी आवश्यक है कि आने वाले समाज को एक दिशा बोध मिल सके। यह विनिबंध सामान्यजन के लिए लिखा जाने वाला श्रेष्ठ-रोचक साहित्य है; जिसमें स्वाधीनता और मानवीय मर्यादा की प्रतिष्ठा के लिए आजीवन संघर्षरत महायोद्धा के जीवन-संघर्षों का चल-विवरण प्रस्तुत हुआ है। …
महेन्द्र प्रसाद यादव
निदेशक
बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्
पटना
भूमिका

महापंडित राहुल सांकृत्यायन भारतीय साहित्य-जगत में विलक्षण व्यक्तित्व हैं। ज्ञान-विज्ञान की अनेक विधाओं के प्रखर विद्वान होते हुए उन्होंने आम जनता के संघर्षों में सक्रिय हिस्सेदारी निभाई। कभी स्वाधीनता सेनानी तो कभी किसान योद्धा के रूप में वे सक्रिय रहे। आजादी के बाद भी उन्हें कई बार जेल यात्रा करनी पड़ी। लेकिन हर तरह की कठिनाइयों में उनकी लेखनी निरंतर चलती रही।
सहज और सादगी भरे लेखन में उनकी वैचारिक तेजस्विता और बौद्धिक स्पष्टता की चमक है, जो उन्हें समकालीन बुद्धिजीवियों के बीच एक विशिष्ट स्थान प्रदान करती है। सन् 1921 से सन् 1960 तक एक लेखक, विचारक और जनयोद्धा के रूप में निरंतर सक्रिय रहे। हिन्दी भाषा और साहित्य को राष्ट्रीय चेतना, प्रगतिशील मूल्यों एवं प्रौढ़ वैचारिकता से लैस करने में वह सबसे आगे रहे।
यह दुर्भाग्यजनक ही कहा जाएगा कि हिन्दी के हमारे विश्वविद्यालयीय मठाधीशों और सत्ता प्रतिष्ठानों ने नवजागरण की इस महान मनीषा का सम्यक मूल्यांकन करने की कोई चेष्टा नहीं की। उनकी उपेक्षा का क्रम अब तक जारी रहा है। यह वर्ष पूरे देश में राहुल जन्मशती वर्ष के रूप मनाया जा रहा है। पहली बार हिन्दी के विश्वविद्यालयीय मठाधीशों ने जनता और सुधी साहित्य-प्रेमियों की सक्रिय पहलकदमी देखकर राहुलजी को याद किया। राहुल साहित्य के एक अदना विद्यार्थी होने के नाते मेरे लिए यह सुखद घटना है कि आज पूरे देश में राहुलजी पर लिखा-पढ़ा जा रहा है।
वर्षों तक उनके सहयात्री रहे, हिन्दी के यशस्वी कवि नागार्जुन ने उन्हें याद करते हुए अपने एक संस्मरण में लिखा है: वे रूढ़िभंजक थे, प्रोग्रेसिव थे, नास्तिक थे…। पर राहुलजी को जिन लोगों ने महापंडित की उपाधि दी, उन्हें उनके व्यक्तित्व के यह गुण पसंद नहीं थे। वे तो संस्कृत, वेदान्त, साहित्य, संस्कृति और पुरातत्व के क्षेत्र में उनकी विद्वता पर लट्टू थे। निस्संदेह राहुलजी उच्चकोटि के विद्वान और बहुमुखी प्रतिभा सम्पन्न महापंडित थे। लेकिन उनमें साधारण और रूढ़ अर्थों वाला पांडित्य नहीं था। वे सही मायने में एक योद्धा थे- वैचारिक युद्ध के तेजस्वी और विद्रोही योद्धा! इसलिए पुस्तक का नामकरण अटपटा नहीं लगना चाहिए।
बिहार राहुलजी का कर्मक्षेत्र रहा। बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् ने गत 10 अगस्त, 93 को राहुल सांकृत्यायन की स्मृति में एक संगोष्ठी का आयोजन किया। परिषद् के निदेशक प्रो0 महेन्द्र प्रसाद यादव की पहल पर आयोजित इस संगोष्ठी में मुझे मुख्य वक्ता के रूप में आलेख-पाठ के लिए आमंत्रित किया गया। उसी दौरान परिषद् ने राहुलजी पर एक पुस्तक प्रकाशित करने की योजना बनायी और यह दायित्व मुझे सौंपा। यह पुस्तक इसी योजना के तहत प्रकाशित हो रही है।
आदरणीय राजेंद्र यादव, डॉ0 मैनेजर पाण्डेय, आनंद स्वरूप वर्मा, अनवर जमाल, भाई महेन्द्र जी, पी एन विद्यार्थी, अरुण कमल, डॉ खगेन्द्र ठाकुर, अंबिका चौधरी, सत्येन्द्र सिन्हा, प्रेम कुमार मणि और मदन कश्यप ने समय-समय पर मेरा उत्साहवर्द्धन किया। इनका मैं आभारी हूँ।
उर्मिलेश
22 फरवरी, 1994
पटना

आगे आप योद्धा संन्यासी का जीवन, इतिहास की तह में रचनाशीलता की तलाश, महान् स्वप्नदर्शी का यात्रा-दर्शन, हिन्दी क्षेत्रों में नई सामाजिक चेतना और राहुल, तिब्बत में ग्रन्थों की खोज, और स्वाधीनता आंदोलन, समाजवाद और राहुल अध्याय पढ़ेंगे। परिशिष्ट में राहुलजी के जीवन की प्रमुख की घटनाएँ, राहुलजी की पुस्तकों की सूची आदि पढ़ेंगे।