लीजिए सुन लीजिए मेरे जवाब

5 टिप्पणियाँ

(http://shrut-sugya.blogspot.com/2011/06/blog-post.html पर स्मार्ट इंडियन के सवालों और हंसराज यानि सुज्ञ की बातों के जवाब जो मैंने सुज्ञ के चिट्ठे पर दिया है, यहाँ प्रकाशित कर रहा हूँ। माफ़ी चाहता हूँ कि ऐसी चीज डालनी पड़ी लेकिन जवाब देना मेरे खयाल से आवश्यक था। यह जवाब इतना लम्बा हो गया कि इसमें 6000 शब्द लग गए।  इतने लम्बे आलेख या जवाब को पढ़ने के लिए समय तो ज्यादा लगेगा लेकिन उम्मीद करता हूं कि आप भी कुछ समझ पाएंगे इससे।)

यह जवाब मैंने जे सी जी कोविचार शून्य जी कोस्मार्ट इंडियन जी को(जो अपना नाम तक विदेशी रखते हैं लेकिन भारतीयता के पुरोधा हैं) और सुज्ञ जी को ईमेल से भेज रहा हूँ। अपने ब्लाग पर भी डाल रहा हूँ। और हंसराज जीअन्तिम बार दुस्साहस करते हुए आपके ब्लाग पर सम्भवत: आज तक की सबसे लम्बी टिप्पणी करके जा रहा हूँ।
मैंने अपने ब्लाग पर जो लिखा हैआपने उसे गलत समझा।  ये रही मेरी गलती कि अपने ब्लाग पे मजाक-मजाक में कुछ लिखा और आप उससे इतने परेशान हो गए। मुझे यह तो अधिकार है ही कि मैं अपने ब्लाग पर शीर्षक क्या दूँमहाशक्ति हो या आशा की परतें हर ब्लागर को इतना तो अधिकार है कि वह अपने ब्लाग का नाम क्या रखे। आप स्वयं का उदाहरण लें तो स्मार्ट इंडियन नाम रखने के लिए आपने किसी से नहीं पूछा।
अब सुनिए एक कहानी तब आगे बढ़ता हूँ।
सम्भवत: दादू की कहानी है यह। एक राजा था जिसे दादू से ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा हुई और वह दादू का शिष्य बनना चाहता था। घोड़े से गया दादू के इलाके में। उनकी कुटिया के पास एक बूढ़ा आदमी घास काट रहा था(घास काटना हमारी भाषा में घास गढ़ना कहा जाता है)। राजा ने उस आदमी से पूछा- दादू कहाँ हैंउस आदमी ने कोई जवाब नहीं दिया। राजा ने फिर पूछा और इस बार भी आदमी ने कोई जवाब नहीं दिया। अब राजा गुस्सा गया। उसने तीसरी बार पूछा- दादू कहाँ हैंइस बार भी जवाब नहीं देने पर राजा ने जोर से कहा- गूंगे हो क्याऔर दो कोड़े बरसा दिए। तमतमाया हुआ कुटिया के अन्दर गया। वहाँ उसने दादू के बारे में पूछा तो किसी ने बताया कि बाहर घास काट रहे हैं। राजा बहुत पछताया और जाकर दादू के पैरों पर गिर पड़ा। माफी मांगते हुए उसने एक सवाल पूछा- दादूआपने बताया क्यों नहीं कि आप ही दादू हैंदादू ने जवाब दिया- जिस तरह शिष्य की परीक्षा होती है उस तरह गुरु को भी परीक्षा देनी चाहिए कि वह इस काबिल है कि नहीं?
अब आपकी बात पर आते हैं। यह कहानी क्यों कहायह सोचने की चीज है।
anvarat.blogspot.com/2011/06/blog-post_19.html
इन दोनों लिंकों पर मैंने बहस में भाग लिया था और वहीं की एक बात लेकर सुज्ञ जी ने लिखा है।
सबसे पहले बात करेंगे सुज्ञ जी द्वारा मुझे कुछ बताए जाने की। उनका कहना है कि मैंने विचार शून्य और स्मार्ट इंडियन का अपमान किया है। नाम में आदर इसलिए क्योंकि दोनों के नाम ये नहीं हैं।
हंसराज(अब बार बार जी नहीं लगा सकता) जी को किसने यह अधिकार दिया है कि वे सदाचार को बाँटे और वे भी महान ग्रन्थकार बनते हुए- आस्तिक सदाचार और नास्तिक सदाचार। सदाचार पर बहस चल चुकी थी और उसमें दिनेशराय द्विवेदी जी से मैंने अपनी सहमति अपने तर्कों से जताई थी। वहाँ कोई व्यक्तिगत आलोचना नहीं हुई थी इस बात को लेकर।
सबसे पहले विचार शून्य ने लिखा
_______________________________________
23 June, 2011 20:24
 VICHAAR SHOONYA ने कहा
आस्तिक सदाचार और नास्तिक सदाचार के बीच का फर्क. कौन सा वाला बेहतर है यहाँ मैं उन लोगों का पक्ष भी जानना चाहूँगा जो नास्तिक सदाचार के पालनकर्ता हैं.
_______________________________
मैं हर बात का गरम और नरम जवाब देने की कोशिश करूंगा।
यहाँ विचार शून्य के इस टिप्पणी का जिक्र इस लिया किया गया कि इस पूरे मुद्दे में आपमैंविचार शून्य और हंसराज सब शामिल हैं।
तो यहाँ उस टिप्पणी से बात शुरु होती है लेकिन मुझे इससे कोई मतलब नहीं था।
उसके बाद एक और टिप्पणी आई
____________________
Er. Diwas Dinesh Gaur ने कहा
हंसराज भाई साधुवाद…कल की बहस के परिणामस्वरुप बहुत कुछ आपसे सीखाएक अम्न्थान हो गयाआस्तिक व नास्तिक के बीच के अंतर को आपने बखूबी समझाया हैआस्तिक की श्रेष्ठता निसंदेह नास्तिक से अधिक है|
आभार…
_________________________
अब अगर आप शिक्षक हैं और शिक्षक के उपर बहस चले तो आपको अधिकार है कि आप इस बहस का हिस्सा बनें। ठीक उसी प्रकार मैं इस बहस का हिस्सा बना क्योंकि दिवस से मेरी बहस पहले भी हो चुकी थी।
यह वाक्य इनका अहंकार दिखाता है कि आस्तिक की श्रेष्ठता निस्सन्देह नास्तिक से अधिक है। यह अहंकारी भाव है। यहाँ याद रहे कि राहुल सांकृत्यायन और भगतसिंह भी नास्तिक थे। मैंने जो बहस की है उसी तरह उन्होंने अपनी किताबों में की है। आप चाहें तो उपर वाले लिंक से भगतसिंह का प्रसिद्ध आलेख ‘मैं नास्तिक क्यों हूँ?’ पढ़ सकते हैं या आप पढ़ चुके होंगे।
लेकिन मैंने दिवस की बात पर ध्यान नहीं दिया।
तभी मैं इस ब्लाग पर आता हूँ। और टिप्पणी करता हूँ।
__________________
चंदन कुमार मिश्र ने कहा
अच्छा तो आप फिर उसी मुद्दे पर हैं! अभी अभी पता चला। लेकिन मेरी बात का जवाब तो किसी ने दिया नहीं कि अपराधियों में से कितने नास्तिक हैं और कितने आस्तिक।
दूसरी बात किसी नास्तिक की तुलना में हमेशा आस्तिकों के शत्रु कम होते हैं। क्योंकि वह वर्तमान व्यवस्था को स्वीकारता है लेकिन नास्तिक विद्रोह करता है। स्वयं के विवेक से चलता है दूसरों के विवेक के पास अपने विवेक को गिरवी नहीं रखता। आप अच्छे से जानते हैं कि राहुल सांकृत्यायन के शत्रु ज्यादा थे या विवेकानन्द के। आपकी दोनों बातों का कोई आधार है ही नहींकम से कम मैं जहाँ तक समझता हूँ। मैं औरों की तरह हाँ में हाँ मिलाता रहूँ तो सब ठीक होगातो यह मुझे मंजूर नहीं है।
और यह भी जान लीजिए कि मैंने अपने चिट्ठे पर ईश्वर और धर्म को लेकर बहुत सारे आलेखों को लिखने की ठान ली है और आज शुरु कर चुका हूँ।
24 June, 2011 20:42
_____________________
यह मेरा अपना मत है। इससे किसी को सहमति या असहमति हो सकती है। निश्चित तौर पर कुछ हाथ की अंगुलियों पर गिने जाने लायक नास्तिक हैं जो हिंसा का बहुत क्रूर खेल खेल चुके जैसे स्टालिनमाओ(जैसा कि आपने कहा) लेकिन दुनिया में यातना शिविरों के लिए जाना जाने वाला हिटलर तो अपने को आर्य यानि श्रेष्ट कहता थाऔर ईश्वर की सत्ता में विश्वास भी करता था।
यहाँ हंसराज ने कहा कि आस्तिकों के दुश्मन ज्यादा होते हैं लेकिन यह बात कितनी सही हैआप भी जानते हैं। दुश्मन तो परम्परा को तोड़नेवालों के होते हैं अधिक संख्या में न कि परम्परा में जीने वालों के। भारत में ऐसे एक नहीं सैकड़ों उदाहरण हैं। जैसे तुलसीदास को ही देखें तो उन्होंने परम्परा से हटकर किताब क्या लिख दी सारे पंडित उनके शत्रु बन गए। वैसे भी नास्तिकों की संख्या आप अच्छी तरह जानते हैं कि कितनी हैमैं जब भी बोलता हूँ तब भारत के संदर्भ में। इसलिए किसी अन्य देश से मेरे कहे का अर्थ नहीं जोड़ा जाय। मैं भारत से बाहर की बात करते समय बता दूंगा कि भारत से बाहर किसी दूसरे देश की बात कर रहा हूँ।
अब वापस आते हैं अपनी बहस की कहानी पर।
उसके बाद आप आते हैं इस टिप्पणी के साथ।
_________________________
Smart Indian – स्मार्ट इंडियन ने कहा
@आस्तिक सदाचार और नास्तिक सदाचार के बीच का फर्क. कौन सा वाला बेहतर है?
ज़ाहिर है कि सदाचार सदाचार ही है आधार कुछ भी हो।
@अपराधियों में से कितने नास्तिक हैं और कितने आस्तिक।
मुझे नहीं लगता कि ऐसी फ़िज़ूल स्टडी में कभी कोई संसाधन लगाये गये होन्गे। कॉमन सैंस से कहूँ तो नास्तिकों का प्रतिशत अपराधियों में भी कमोबेश उतना ही होगा जितना सदाचारियों में
@भय से धार्मिक दुकानदारी खूब चमकाई जाती है।
भय से सांसारिक दुकानदारी भी खूब चमकाई जाती हैये अस्पतालबीमा आदि क्या हैं?
@निशांत,
तुम्हारी बात सबसे अच्छी लगी। तुम जैसे लोग धार्मिक आचरण वाले नास्तिक कहे जायेंगे। भारतीय परम्परा में आस्तिक-नास्तिक की कोई समस्या नहीं है। समस्या तब आती है जब दो क्रूर और अति-असहिष्णु वर्ग (धर्मान्ध और धर्महंता) सात्विक (आस्तिक और नास्तिक) वर्गों की आड में अपना उल्लू सीधा करते हैं। इन मौकापरस्तों को अपनी असलियत ज़ाहिर करने का साहस नहीं होता है इसलिये नास्तिक/आस्तिक की आड लिये रहते हैं मगर सच्चाई कब तक छिप सकती है?
25 June, 2011 05:55
________________________________________
यह आपकी सोच है। मुझे इसमें कुछ मतभेद दिखाई पड़े तो टिप्पणी करना मैंने आवश्यक समझा। आपकी पहली बात का मुझसे कोई संबंध नहीं है।
दूसरी बात आपने मेरे सवाल को फालतू स्टडी करार दिया। और कामन सैंस से आपने जो कहा वह गलत है क्योंकि अपराधियों या कैदियों की गिनती कर लें तो पता चल जाएगा कि ज्यादा अपराधी कौन होता हैलेकिन आपको अपनी बात रखने का पूरा पूरा अधिकार था। यह भी ठीक था। मैं कहूँ तो आप बुरा मानेंगे जैसे मैंने किसी काम को मूर्खता करार् दिया उसी तरह आपने मेरे सवाल पर फालतू स्टडी का विचार रखा। किसी के विचारों के अपमान का(अगर इससे अपमान होता है तब) पहला काम आपने शुरु किया। लेकिन फिर भी सुज्ञ को आप सही लगे। उनके विचार से निश्चय ही मैं गलत रुख अपनाता हूँ जब किसी को मूर्खता वाली बात करने वाला कह देता हूँ(जिसे सीधे-सीधे मूर्ख भी कह सकते हैं लेकिन शब्दों की चालाकी से हँसने या मूर्खता की बात कह दिया जाता है) और इस हिसाब से आप मेरे प्रति बुरा शब्द इस्तेमाल करनेवाले पहले आदमी हुए(हम दोनों के बीच में)। आप कल्पना कीजिए कि कोई वैज्ञानिक जोंक पर शोध कर रहा है और उसे कहें कि आप फालतू स्टडी कर रहा हैबस समझ में आ जाएगा कि अच्छा लगेगा। अगर आप उसकी जगह हों और आपको यह अच्छा लगे तो आप महान हैं और मैं इतना महान नहीं। अगर मैं पूछूँ कि आप होते कौन हैं यह कहने वाले की मेरी बात या मेरे विचार या तर्क फालतू स्टडी से संबन्धित हैंतो कैसा लगेगा?
अब आपकी दूसरी बात आती है कि भय से सांसारिक दुकानदारी भी खूब चमकाई जाती है। मै जानना चाहता हूँ( और यही मान कर चलता हूँ कि भारत के ही बारे में ही बात की जा रही है क्योंकि सभी ब्लागर भारत के हैं) कि बीमा और अस्पताल  में कितने नास्तिक लोग काम करते हैं। इन सबको या नास्तिक शब्द के मेरे लिए क्या अर्थ हैंयह जानने के लिए आप अनवरत ब्लाग को पढ़ लें(अगर चाहें तो)। भारत के कितने प्रतिशत अमीर लोगबीमा से सम्बन्धित लोग, अस्पताल से संबन्धित लोग ईश्वर पर यकीन नहीं करते हैं। बजाज से लेकर गाँ व के भारतीय जीवन बीमा निगम के अभिकर्ता तकसभी लगभग सभी आस्तिक हैं। आप याद रखें कि भारत में नास्तिक दर्शन से संबन्धित लोगों ने भी कोई गलत काम नहीं किया जैसे चार्वाकबहुत हद तक बुद्ध और महावीर या आधुनिक काल के राहुल जी या शहीद-ए-आजम भगतसिंह आदि। अब आप लेनिन का उदाहरण नहीं चिपकाएँ क्योंकि भारत के संबंध में बात हो रही है और अगर यह बात पहले नहीं समझ सके तो आपने पूछा नहीं और मैंने बताया नहीं।(आपकी भूल कि आपने अपने से अर्थ निकाला और मेरी भूल कि इस ओर मैंने ध्यान नहीं दिलाया) आपसे आग्रह है कि अगर आप मेरे लिए नास्तिकता आदि का अर्थ जानना चाहते हैं तो आपको अनवरत पढ़ना ही होगा।
अब अगली टिप्पणी जब आपने निशान्त के लिए की। तो मैं खुश हुआ आपके विचारों में मानव का उज्जवल पक्ष देखकर लेकिन आपकी भाषा और संकेत(जैसा कि मैं समझा) मुझे अच्छे नहीं लगे। धर्मान्ध और धर्महन्ता कहकर आपने अपने शब्दों का कैसा प्रयोग किया यह तो आप ही जानते हैं लेकिन मैं इसे आपकी सोच से समझ नहीं सकता था क्योंकि आप मेरी भावनाओं को नहीं समझ सकते थे।
भारतीय परम्परा में आस्तिक-नास्तिक की कोई समस्या नहीं है। यह वाक्य क्या हैआप इसे क्या कहेंगे। ग्रन्थों में जो लिखा है उससे हटकर आपने खुद ही विचारधारा स्थापित कर ली है। जबकि भारत वह पहला देश है जहाँ चार्वाक नास्तिकता का दर्शन उठाते हैं। वेदोंस्वर्गईश्वर और आत्मा आदि की निंदा करते हैं। भारतीय परंपरा पर अपने आपको या अपनी बात को ब्रह्मवाक्य मानना मुझे बुद्धिमानी नहीं लगी।
धर्महन्ताअति-असहिष्णुउल्लू सीधा करनामौकापरस्तआड़ लेना ये सारे शब्द आपकी सभ्य शब्दावली के नमूने थे। भगतसिंह का लिखा मैं नास्तिक क्यों हूँपढ़ें। मैं आपको भगतसिंह से ज्यादा महत्व नहीं दे सकता। उन्होंने जब लिखा तब वे किस मौके की तलाश में थेकहाँ से वे उल्लू सीधा कर रहे थेवे अति-असहिष्णु थे , मैंने तो आपके शब्दों का यही अर्थ लगाया। और यह कहीं से कोई अपराध नहीं है क्योंकि हरि का अर्थ एक जगह बन्दर और दूसरे स्थान पर साँप लगाना कहीं से गलत नहीं हैं
मैं शहीदों कासच्चे लोगों का अपमान नहीं सहते हुए आपके उपर कड़ी टिप्पणियाँ कर गया। अब इसकी वजह देखिए।
अपमान क्यों सहूँ जब आप भगतसिंह और राहुल सांकृत्यायन से न तो बुद्धिमान हैं और देश सेवी हैं। जाहिर है आप गदर पार्टी की स्थापना के लिए अमेरिका में नहीं रह रहे हैं कि आपकी तरफ़दारी करता।
न उनके इतनी आपकी हैसियत है। आप होंगे बड़े ब्लागर या चिन्तक देश को फर्क क्या पड़ता है इससे। यहाँ याद रखा जाय कि मेरे लिए भारत का अर्थ 90 करोड़ लोग हैं और बहुत बाद में किनारे पर 30 करोड़(ये सब घोर आस्तिक होते हैं और बेचारे 90 करोड़ लोग इन सबके जाल में फँसे हुए हैं)।
अब मैं इतनी कड़ी(मैं तो नहीं मानता कि इतनी कड़ी) टिप्पणियाँ कर गया तो इसके पीछे वजह एक नहीं है। आप देख रहे हैं आपने भारतीय परम्परा का उत्तराधिकारी समझना बिलकुल ठीक नहींचाहे आपके साथ पूरा संसार खड़ा हो जायहिन्दी ब्लाग-जगत तो बहुत छोटा है।
अब सोचते हैं कि कब कोई कड़ी टिप्पणी करता हैशायद आप समझ सकते हैं क्योंकि आप मुझसे बड़े हैं(उम्र में इसका मतलब ये तो नहीं कि मैं आँख मूँद कर आपके चरणस्पर्श करता रहूँ)। या लीजिए यह भी अपनी समझ से रख देता हूँ। अगर आपको कोई बार-बार आपका नाम पूछेतो कैसा महसूस करेंगेझल्लाना कही से जायज नहीं। यानि जब आपकी विचारधारा का कहीं टकराव होता है और वह भी पुनरावर्ती बातों से तो आपमें क्रोध पैदा होना चाहिए नहीं तो या तो आप गीता में वर्णित स्थितप्रज्ञ हैं या स्वयं समझ लें। यही बात मेरे उपर भी लागू होती है। आपके विचारों में टकराव हो तो यह अच्छा भी है क्योंकि इससे मालूम होता है कि आप सोच रहे हैं और चेतन हैं वरना जड़ की स्थिति हो जाएगी।
या दूसरी स्थिति है कि आप थोड़े कड़े शब्द बोलने के आदी हैं। मैं किसी को कोई गाली कभी नहीं देता। यहाँ तक सर्वव्यापी साला शब्द भी मेरे मुँह से नहीं निकलता। इसलिए मैं कम से कम इतना तो कह ही सकता हूँ कि मैंने आपको गाली नहीं दी। लेकिन जैसा कि आपने इस्तेमाल किए हुए पाँच-छ: शब्द देखाआप समझते होंगे कड़ी टिप्पणी या कटु शब्द किसने शुरु किया। तो इससे इतना तो मुझे भी अधिकार मिलता है कि थोड़े से कटु शब्द मैं भी इस्तेमाल कर सकूँ(अगर लगे)। लेकिन हंसराज को इन शब्दों में कुछ कुटिलता नहीं दिखाई देती लेकिन मेरे शब्दों में दिखाई देती है तो मुझे नहीं लगता कि हंसराज की सोच पर मैं अपना माथा पीटूँ!
अब आगे बढ़ते हैं।
फिर मैंने टिप्पणी की
________________
 चंदन कुमार मिश्र ने कहा
श्रीमान स्मार्ट इंडियन,
असहिष्णुता का अर्थ मालूम हैवैसे भी विदेश में रहनेवालों को कोई महत्व नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि यहाँ से भागकर अपने देश को अंगूठा दिखाकर झूठ-मूठ काबिल बनने से क्या होता है जनाब?
कितने अस्पताल और बीमा में नास्तिक लोग हैंकामन सैंस लगाते हैं। आपने दूसरे देशों को छोड़िए भारत में ही कितने नास्तिकों को देखा हैभारत में एक करोड़ लोग भी नास्तिक नहीं है। यानि अपराधी अक्सर क्या होते हैंखुद समझ लीजिए।
आपको नास्तिकता और आस्तिकता की समझ नहीं हैऐसा मुझे लगता है,
आप मुझे ऐसे नास्तिकों की गिनती बताइए जिन्होंने संसार को खराब किया और ऐसे आस्तिकों की गिनती खुद कर लें जिन्होंने देश और संसार को क्या दिया?
25 June, 2011 06:49 
__________________
मैं कह चुका हूँ कि इन मौकापरस्तों को अपनी असलियत ज़ाहिर करने का साहस नहीं होता है इसलिये नास्तिक/आस्तिक की आड लिये रहते हैं मगर सच्चाई कब तक छिप सकती है?’ इस वाक्य ने मेरे जैसे विचार वाले को क्या माना हैआप खुद जानते हैं(भले ही आस्तिक शामिल हैं लेकिन अगर कोई कहे कि हर भारतीय चोर होता है तो आपको बुरा नहीं लगेगा क्या?, कम से कम जो चोर नहीं हैं उनका तो फर्ज बनता है कि वे बताएँ और जवाब दें)। यह कहाँ से गलत हो गयामेरी नजर में इसमें रत्ती भर गलती नहीं है।
अब विचार करते हैं आपकी बात पर बिंदुवार।
___________________________
श्रीमान चंदन कुमार मिश्र
आपने जो प्रश्न पूछेमैंने सदाशयता से उनका उत्तर देने का प्रयास यह सोचकर किया कि आप वाकई उत्तर जानने में उत्सुक हैं। मगर आपके जवाबों की तिलमिलाहट और व्यक्तिगत आक्षेप एक दूसरी ही कहानी कह रहे हैं। आपके ऐटिट्यूड ने काफ़ी निराश किया। मेरे पास फ़िज़ूल बातों के जवाब देते रहने का समय नहीं है फिर भी एक बार हर किसी को अवसर देने का प्रयास अवश्य करता हूँ इसलिये इस बार के सवालों के उत्तर अवश्य दे रहा हूँआगे की कोई गारंटी नहीं है।
_______________________________
चलिए अपने को सदाशयी माना। मेरी बातें फिजूल हैं। आप किसी को अवसर भी दे सकते हैं यानि आप इस लायक अपने को मानते हैं कि आप लोगों से हटकर कोई महान व्यक्तित्व हैं।
आत्मप्रशंसा और दूसरे की बातें फिजूल! अच्छा विचार है। विद्वान होंगे आप। किताबेंकविताएँ सब लिखी होंगी आपने लेकिन इससे यह साबित नहीं होता कि गाँधी के निर्मल चरित्र वाले हैं। मैकाले भी कम विद्वान नहीं था। उसकी किताबें इंग्लैंड में इतिहास पर बहुत महत्व की मानी जाती हैं। लेकिन भारत उसके द्वारा किए घृणित कार्यों(शायद महान लोगों की नजर में प्रशंसनीय और महान कार्य) सेउसके द्वारा उठाए गए कदमों से जानता है कि मैकाले कितना दयावान और महान था। मेरे नजरिये ने नहीं ऐट्टिट्यूड ने आपको निराश ही नहीं कियाकाफी निराश किया और आपके द्वारा दिए गए पाँच विशेषणों ने मुझे काफी खुशी प्रदान की!
अब आगे
_______________
@असहिष्णुता का अर्थ मालूम है?
नहीं जीक्षमा कीजिये। इस सभा में एक आप ही महापण्डित हैंविस्तार से समझाइयेजिन पर समय होगा वे सुन लेंगे। वैसे निष्पक्ष होकर देखने वालों को “असहिष्णुता” का अर्थ आपके उपरोक्त सवाल में ही मिल जायेगा।
________________________
अब मैंने कहा कि असहिष्णु का अर्थ मालूम हैक्यों कहाक्या आप यह सोच भी नहीं सकते थेबस बौखलाहट में आप भी जवाब दे गए(कम से कम आप तो हंसराज और अन्य लोगों की नजरों में तो विद्वान और अग्रिम पंक्ति के ब्लागर हैंमैं तो मूर्ख और दुष्टात्मा हूँ)? क्या आपने यह कहकर समूचे अनीश्वरवादियों को कायरछिपने वाला और असहिष्णु नहीं कहाऔर अगर कहा तो मेरा प्रश्न किस हिसाब से गलत हैमुझे महापंडित करार देकर आपने यह तो बता ही दिया कि आप भी टेढ़ी बात करते हैं और जब ऐसा है तब अपने को किसी से महान और सदाशयी कैसे कह सकते हैंवैसे यह मामला निजी है। कितने लोग मैकाले को भी महान कहते हैं। यहीं नहीं आपने मुझे अप्रत्यक्षत: पक्षपाती भी कहा। (अब कह दीजिए कि मैं बाल की खाल निकाल रहा हूँ क्योंकि प्रथम पंक्ति के विद्वान ब्लागर हैं और सारे लोग या मैं निम्न पंक्ति का)। यानि आपने एक और विशेषण प्रदान किया।
कोई यह नहीं मानेगा कि व्यंग्यात्मक लहजे में कही गई बात आपको निष्कपट साबित करती है। मैं तो हूँ कपटी और अहंकारीआप सबों की दृष्टि में। जब आदमी टेढ़ी बात बोले तो वह निर्मल ह्रदय वाला हो ही नहीं सकताकम से कम उस वक्त जिस वक्त वो तीखी बात बोल रहा है।
अगर आपने असहिष्णु कहा और मैंने आपसे इतना ही पूछा कि इसका अर्थ मालूम हैवह भी प्रश्नवाचक चिन्ह के साथ यानि सवाल पूछा जा रहा है। लेकिन यह बात आपको इतनी खली आपने अपने अहं की पुष्टि के लिए मुझे महापंडित कह दिया।
अब आगे
___________________________
वैसे भी विदेश में रहनेवालों को कोई महत्व नहीं दिया जाना चाहिए
आप वाकई गम्भीर हैंजब आप प्रधानमंत्री बन जायें तब सम्विधान में ऐसा लिखा दें। अगर अंग्रेज़ों की जगह आपका राज होता तो शायद गान्धीजी जैसों के बारे में यही प्रचारित कर रहे होते। BTW, Who are you to decide it? A self-proclaimed arrogant future PM? The world has already seen many dictators, can’t tolerate anymore.
____________________________________________
अब दूसरी बात कि मैंने विदेश की बात की तो खुद गाँधीजी से तुलना(अप्रत्यक्ष ही सही) कर ली। अच्छा है तुलना घटिया लोगों से नहीं ही करनी चाहिए। जब आपने सवाल पूछा कि क्या मैं वाकई गम्भीर हूँ तो आपने जवाब का इन्तजार कियालेकिन यहाँ भी आपने द्वेषपूर्ण रवैया अपनाते हुए फिर सुझाव के साथ व्यंग्य कसा। एक बात कहूँ तो बुरा लगेगा और लगना ही चाहिए। जब हिन्दी प्रदेश में शराबी शराब पी लेता है तब वह अंग्रेजी झाड़ना शुरु कर देता है।
जब आप यह फैसला कर सकते हैं कि कौन असहिष्णु है और कौन दयालुकौन मौकापरस्त है और कौन नहींकौन क्रूर है और धर्महन्ता तो मुझे यह अधिकार कैसे नहीं है कि विदेशी भारतीय(मतलब विदेशों में रहनेवाले भारतीय- आप चाहें तो नाराज हो सकते हैं क्योंकि मैं कुटिलता से अपनी बात कहता हूँयह आपके शुभचिन्तक हंसराज ऐलान कर चुके हैं और इसलिए मैं कितनी भी टेढ़ी बात करूंइसमें कुछ बुरा नहीं क्योंकि बुरा आदमी तो बुरा ही कहेगा) के उपर अपने विचार रखूँहै कोई जवाबक्या आप तय करेंगे कि मैं क्या सोचूँ और क्या नहींजब आप इसके लिए स्वतंत्र हैं कि किसी को साहस नहीं करने वाला करार दें(चाहे वह जिस तरह कहा गया है। कहा तो किसी आदमी के लिए ही है) तो मैं क्यों नहीं?
यह तो वैसी ही बात हुई कि आप जो कहें वह सही और मै जो कहूँ वह गलत। यह एकांगी सोच कौन रखता है- मैं या आप?
यहीं नहीं रुके आप। अभी और कहते जा रहे हैं कि मैं तानाशाह हूँ(या बनना चाहता हूँ)। इतना ही नहीं आप मुझे मेरी इच्छाओं पर रोक लगाने जैसी बात सोच रहे हैं। एक स्वघोषित अहंकारी भावी प्रधानमंत्री – यही कहा है न आपने। जब आप व्यक्तिगत टिप्पणी कर सकते हैं तो और कोई क्यों नहीं। क्या आप अपने को बादशाह समझते हैं। यह भ्रम छोड़ दीजिए जनाब। आपको झेलने को कौन कहता हैआप इतने परेशान दिखते हैं सिर्फ़ मेरे ब्लाग के एक छोटे से शब्द-समूह से। आपमें कितना धैर्य हैइसका अन्दाजा है आपको(मैं अवगुणी हूँयह याद रखें इसलिए यह अपेक्षा आपसे और सिर्फ़ आपसे कर रहा हूँ)गाँधी वहाँ गए थे गुलामी के दौर में अपने पिता के भेजने के कारण और आप भूल रहे हैं कि वकालत के पढ़ाई की तत्कालीन राजधानी भारत न होकर इंग्लैंड थी। वह पैसे कमाकर इंग्लैंड को देने नहीं गए थे। यह बात भी मालूम होनी चाहिए। उस समय भारत की असली राजधानी यानि केंद्र दिल्ली नहीं इंग्लैंड हैक्या यह याद नहीं आपकोनिश्चित रुप से मैं नहीं जानता कि आप वहाँ क्या करते हैंलेकिन इतना मालूम है भारत को कोई लाभ नहीं पहुँचाते हैं। अगर मेरी बात झूठ साबित करनी हो तो बताइए कि देश को क्या क्या दिया है आपनेमुझसे यह सवाल पूछने के पहले बता दूँ कि अभी मैं छात्र हूँ और जीवन का छात्र हमेशा रहूंगाविद्वानों का कभी नहीं। जब लोग अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं कि भारत-अमेरिका परमाणु करार सही है या गलत तो आप कौन होते हैं मुझे इस बात पर सोचने से रोकने वाले कि विदेशों में जाना भारत के लिए फायदेमंद है या नहीं?
यह आपकी तानाशाही सोच को दर्शाता है मेरी नहीं।
इतना काफी होगा। आगे देखते हैं
_______________________
@क्योंकि यहाँ से भागकर अपने देश को अंगूठा दिखाकर झूठ-मूठ काबिल बनने से क्या होता है जनाब?
आप मुझे जाने बिना मेरे बारे में इतनी बडी बात कह रहे हैं कि यदि आप कभी अपनी बात के खोखलेपन को जानने लायक परिपक्व हुए तो अपनी उद्दंडता पर शर्म करेंगे। और अगर मुझे जाने बिना ही आपको यक़ीन है कि मैं किसे अंगूठा दिखाकर कैसे भागा हूँ तो फिर आप जैसे आदमी से बात करके मैं ही नहीं शायद बहुत से अन्य लोग अपना वक़्त बर्बाद कर रहे हैं क्योंकि वार्ता की भी एक मर्यादा होती है। “झूठ-मूठ काबिल बनने” और “सचमुच काबिल बनने” का परीक्षण कहाँ होता है और उसके प्रमाणपत्र कहाँ मिलते हैंयह भी बताते जाते तो शायद आगे से लोग आपकी बहस में प्रमाणपत्र लेकर ही घुसेंगे।
_____________________________________________
इस सवाल का जवाब तो देना अभी भी आसान है लेकिन आपकी बात रह जाय इसलिए आप अपना विस्तृत परिचय बता दें। अब कहिएगा कि क्यों बताऊँतो मत बताइए। देश के सुधार के लिए आपने क्या किया हैअंगूठा दिखाकर भागने का मतलब यह था कि भारत में पढ़ लिखकर विदेशों में भागने का कोई आवश्यक कारण आपके लिए नहीं दिखा। आप ऐसे वैज्ञानिक भी नहीं कि अमेरिका में ही शोध कर सकें और उस शोध के लिए भारत में कोई व्यवस्था नहीं है।
जब भारत का एक आदमी विदेश भाग जाता है(जी हाँभाग जाता है) तब इस देश के पास एक दिमाग और दो हाथ कम हो जाते हैं। यह परम सत्य याद रखें जनाब।
अगर आपको इन जवाबों से फिर भी इस सवाल के जवाब से संतुष्टि नहीं मिले तो (जी हाँ सिर्फ़ इस सवाल के लिए) मैं आपसे माफ़ी मांगता हूँ। मैं माफ़ी चाहता हूँ कि मैं एक नहीं सौ भगतसिंह के बराबर एक आदमी से बात कर रहा हूँ और मैं खुद एक भगतसिंह के अरबवें हिस्से में नहीं आता।
झूठ-मूठ काबिल बनने का अर्थ अब साफ हो गया होगा, जहाँ तक मैं समझता हूँ।
इस सवाल का जवाब ज्यादा नहीं।
अब अगले सवाल पर
__________________________
@आपको नास्तिकता और आस्तिकता की समझ नहीं हैऐसा मुझे लगता है
आपके लगने से इस ब्रह्माण्ड को कोई फर्क पडने वाला है क्याब्रह्माण्ड के अनंत काल में आपका यहाँ अस्तित्व है ही कितनी देर काआपकी सारी बहस कुछ एक दशकों में मिट्टी होने वाली है। याद रखिये एक शताब्दी के अन्दर न आप यहाँ होंगे न ऐसा एक भी व्यक्ति जिससे बहस करके आप अपने अहम को पोषित कर रहे हैं। आप नास्तिक हैं तो रहिये। Who cares! लेकिन अगर स्टालिनमाओ जैसे तथाकथित नास्तिक तानाशाहों की तरह सारी दुनिया को ज़बर्दस्ती धर्मविरोधी बनाना चाहेंगे तो याद रहे कि उनके सपने भी उन्हीं के साथ दफन हो गये।
___________________________________________
आप कैसे कह सकते हैं कि मैं सारी दुनिया को धर्मविरोधीवह भी जबरदस्ती बनाना चाहता हूँहर बार ऐसा लगता है कि आपके अहंकार को जबरदस्त ठेस पहुँचने से बौखलाए हुए हैं। इस बार के सवाल में आप प्रवचन करते नजर आ रहे हैं। आपको मेरे नास्तिक होने की चिन्ता करने की क्या जरूरत आन पड़ी कि हू केयर्स का अंग्रेजी वाक्य चिपका गए। आप अंग्रेजी का प्रकोप बार-बार झेलते हुए नजर आते हैं। मैं भी झेलते हुए नजर आता हूँ लेकिन अपनी जिंदगी में अंग्रेजी को घटाने पर लगा हुआ हूँ।
माओ के सपने को छोड़िए लेकिन चीन याद रहे और आप इतने महान हैं तो चीन से अपनी जमीन(गलती हो गईअपनी नहीं भारत देश की)छीन कर या मांगकर ला देते हैं?
माओ की बदौलत ही आज चीन आज का चीन है। स्टालिन मरा तो क्या हुआआपको कौन याद रखेगास्टालिन आपसे ज्यादा मायने रखता है। ब्रह्मांड में न तो मैं ज्यादा दिनों का मेहमान हूँ और न आप लेकिन आप मुझपर ही वाक्य झाड़ रहे हैंझाड़ लीजिएजितना मन हो क्योंकि मन का गुबार निकाल ही लेना चाहिए। क्यों?
और मेरे इस बात का कि मुझे लगता है कि आस्तिकता और नास्तिकता की समझ आपको नहीं हैयह जवाब भी नहीं है जो आपने दिया है। कहीं से नहीं एक प्रतिशत  भी नहीं।
जब मैंने अपनी क्षमता स्वीकार करते हुए कहा कि मुझे लगता है  और आपने कहीं अपने को ज्ञानी समझने से ऐतराज नहीं कियातो खुद सोच लें कि अहंकारी कौन है?
हाँ आपने कहा कि स्टालिनमाओ की तरह यानि आप फिर अपनी मशीन से मेरे वाक्य और मेरे दिमाग का हिसाब-किताब कर रहे हैं। यह आप कैसे सोच सकते हैं जबकि  मैंने स्टालिन और माओ का नाम तक नहीं लिया।
आपको नास्तिकता से और आस्तिकता से कोई झगड़ा तो है नहीं और अन्त में कह  क्यों डालते हैं आप नास्तिक हैं तो रहिये। Who cares!
यहीं आपकी पोल पट्टी और असलियत सामने आ जाती है कि आप सारे बहस करने वालों के प्रतिनिधि जैसे स्वर में अपना निर्णय सुना डालते हैं। जिस बहस में नास्तिक आस्तिक अपनी अपनी बात कह रहे थे(भले ही कुछ तीखे स्वर में वह भी हमेशा नहीं) उसका नेता बनकर अपना यह फैसला सुनाया क्यों आपने जब आपको कोई चिन्ता नहीं है?
और जहाँ तक लगने की बात है शायद आपके लगने से कुछ फर्क पड़ जाता है या कुछ भविष्य में हो जायेक्यों?
अब आगे बढ़ते हैं
________________________________
@ऐसे नास्तिकों की गिनती बताइए जिन्होंने संसार को खराब किया और ऐसे आस्तिकों की गिनती खुद कर लें जिन्होंने देश और संसार को क्या दिया?
अगर अभी तक आपने खुद ही इस सवाल का उत्तर नहीं ढूंढातो अभी बहसों में पडने से पहले थोडा होमवर्क कीजिये। फिर भी एक क्लू देता हूँ कि हिंसक कम्म्युनिस्ट तानाशाहविचारक और उनके रक्त-पिपासु चमचे अपने को नास्तिक ही कहते रहे हैं। गिनना शुरू कर दीजिये।
जय राम जी की! खुदा हाफिज़। गुड बाय (यह गुड भी गॉडली ही है)
25 June, 2011 08:55
__________________________________________
दुनिया के 50 से ज्यादा देशों पर राज करने वालेभारत के दस लाख से ज्यादा क्रांतिकारियों को जान से मारने वालेभारत से खरबों लूट ले जाने वाले आस्तिक थे और वे थे अंग्रेजभारत पत आज तक जितने आक्रमण हुए हैं उनमें 1962 के चीनी आक्रमण के अलावे कोई आक्रमण शायद ही ऐसा रहा है जब आक्रमणकारी आस्तिक न हो।
बलात्कार को मैं हत्या से बड़ा जुर्म मानता हूँ। और संसार के सारे बलात्कारी में से कितने नास्तिक हैंयह बताइए?
वैसे मैं साफ कहना चाहता हूँ कि नास्तिक का मतलब भले ही ईश्वर से है लेकिन मानवता नास्तिकों में ज्यादा है। इस बात का प्रमाण चाहिए तो बताऊँ कि आपने कितने लोगों के नाम लिए स्टालिनलेनिनमाओ जैसे कितने नाम हैं इतिहास में।
लेकिन ईसाई अंग्रेजआतंकवादी के लिए मशहूर(मेरा मतलब सिर्फ़ आतंकवादी से है) धर्मपरमाणु बम बनानेवाले और गिरानेवाले सब आस्तिक ही तो थे या हैं।
फिर भी एक क्लू देता हूँ कि हिंसक कम्म्युनिस्ट तानाशाहविचारक और उनके रक्त-पिपासु चमचे अपने को नास्तिक ही कहते रहे हैं। गिनना शुरू कर दीजिये।
यह वाक्य आपकी मानसिकता और निशान्त की मानसिकता को साफ करती है। निशान्त ने कहा था कि नास्तिक को पापी और दुष्ट ही माना जाता है और वहाँ तो भाषण दे रहे थे आप और यहाँ वही बात दुहरा बैठे। कब तक छलिए खुद को।
और हाँ विश्वविजेता बनने का ख्वाब देखने वाले – सिकन्दरहिटलरअंग्रेजचंगेज खाँनेपोलियन सब आस्तिक थे। इससे तो पता चलता ही है कि साम्राज्यवाद कौन चाहता हैपूँज़ीवादलूटशोषण कौन चाहता हैकम्युनिस्ट बेशक हिंसक रहे हैं (हालांकि 100 प्रतिशत सही नहीं कह सकते) लेकिन कितने नास्तिक को आप जानते हैं जिसने दुनिया में खुद को तानाशाह या साम्राज्य का सम्राट बनाने की कोशिश की। सबसे सफल और भारत से जुड़ा मामला अंग्रेजों का हैं। वे ईसाई धर्म को मानते हैं और आस्तिक हैं।
निस्संदेह हिंसा का निंदक हूँ मैं लेकिन उसी रुप में जैसे भगतसिंह ने हिंसा की निंदा की है।
यह भी बता दूँ शाकाहारी हूँ जिससे मालूम हो जाय कि हिंसा का मेरे जीवन में क्या स्थान है?
अब आगे और तमाशा देखिए।
____________________________
VICHAAR SHOONYA ने कहा
सुज्ञ जीचन्दन कुमार मिश्र जी किस बहस की बात कर रहे हैं , क्या कुछ लिंक मिलेगा.
@चन्दन जी अपने नाम के विपरीत आप गरम दल के मालूम होते हैं. आपको मुफ्त में एक सलाह दूंगा (वैसे मुफ्त में भी दो की चाह रखेंगे तो दो सलाहें भी दे दूंगा). किसी भी विषय में वाद विवाद करते वक्त किसी पर भी व्यक्तिगत आक्षेप करने से पहले कम से कम दस दुसरे ब्लोग्स पर जाकर टिप्पणियां कर लिया करें. आपका क्रोध शांत हो जाया करेगा.
25 June, 2011 10:18
 चंदन कुमार मिश्र ने कहा
नाटक में एक और पात्र! विचार शून्य जी। अहा!
25 June, 2011 10:24 
 चंदन कुमार मिश्र ने कहा
anvarat.blogspot.com/2011/06/blog-post_19.html
वैसे नाम बड़ा अच्छा रखा है विचार शून्य जी। लीजिए लिंक और तमाशा देखिए।
25 June, 2011 10:33
__________________________
विचार शून्य का नाम और तस्वीर बहुत अच्छी लगी। इसलिए बोला कि नाम बड़ा अच्छा रखा है लेकिन इस हंसराज महाराज को इसमें अपनी नजर के चलते अपमान दिख गया।
विचार शून्य को मैंने कहीं से एक भी बुरी बात नहीं कही न ही किसी किस्म का अपमान किया है। मैंने यह कहा कि नाटक में एक और पात्र तो उसके पीछे मेरा कोई गुप मतलब नहीं था। लेकिन हंसराज जी हंस हैं नीर क्षीर विवेक तो है हीपहचान लेंगे।
विचार शून्य को मैंने लिंक दे दियाउन्होंने कहा था कि किस बात की बहस हो रही हैबस इस बात से भी हंसराज जी पर पहाड़ टूट पड़ा।
मैंने कभी किसी एक आदमी के लिए इतना लम्बा जवाब नहीं लिखा।
_______________________________
सुज्ञ ने कहा
चंदन कुमार मिश्र जी,
आप विद्वानों की सभा में अभिव्यक्ति के योग्य ही नहीं है।
आपको यह भी नहीं पता चर्चा कैसे की जाती है।
श्रीमान अनुराग शर्मा जी(स्मार्ट इन्डियन)प्रथम पंक्ति के विद्वान ब्लॉगर है। वे विदेश में होकर भी भारतीय संस्कृति के पुरोधा है। पहले उनके ब्लॉग पर जाकर उनके व्यक्तिव को देखोंउनके सामनें खुद बौने नजर आओगे। आपका दुस्साहस कैसे होता है वैचारिक चर्चा में व्यक्तिगत मिथ्या प्रलाप करने का।
और दीप पाण्डेय जी (विचार शून्य) भी एक विशिष्ठ चिंतक है। उनके मौलिक विचारों को जानिए फिर किसी के बारे में कहनें की हिम्मत करिए।
मेरा ब्लॉग विद्वानों के अपमान के लिए नहीं है। वे विद्वान भी जो मेरे विचारों से विपरित विचार ही क्यों न रखते हो।
मैं नास्तिकों का पूरा सम्मान करता हूँ। बस उनकी विचारधारा पर चिंतन करना ही इस तरह के लेखों का उद्देश्य होता है। किन्तु आप जैसी तुच्छ सोच अगर सभी नास्तिकों की होती हो तो नास्तिकों से घृणा होना स्वभाविक है। आप इस ब्लॉग पर चर्चा के लिये गैर-लायक है। यहाँ दोबारा न रूख न करें।
मैनें आज तक किसी ब्लॉगर का अपमान नहीं किया। आप बिना शर्त अनुराग जी से माफ़ी मांगे। और यहां दोबारा न पधारें।
25 June, 2011 11:24
 सुज्ञ ने कहा
आदरणीय अनुराग शर्मा जी एवं मान्यवर दीप पाण्डेय जी,
मेरी नेट पर अनुपस्थिति में द्वेषी मानसिकता नें मेरे ब्लॉग मंच का उपयोग करके आपके बारे में जो अनर्गल प्रलाप किया उसके लिए मैं हृदय से क्षमाप्रार्थी हूँ।
25 June, 2011 11:33
___________________________
हंसराज जी ने धार्मिक धारावाहिकों के अन्दाज में कहा कि दुस्साहस कैसे किया मैंनेऔर एक शाश्वत झूठ जो आस्तिक अक्सर बोलते हैं(कम से कम ब्लाग पर तो जरूर-100 नहीं तो 99 प्रतिशत) कि वे आस्तिक का सम्मान करते हैंयह सरासर झूठ है। इसका सबूत है और आप देख रहे हैं उनके कुछ कुछ चापलूसी भरे वाक्य कि कहीं आका नाराज न हो जायें। मुझे आकाओं से क्यों डर होऔर माफ़ी तो सिर्फ़ एक बात के लिए मांग सकता हूँ क्योंकि और कोई बात गलत ही नहीं है।
सुज्ञ की अन्तिम टिप्पणी मेरे बारे में
__________________
सुज्ञ ने कहा
@”मुझे लगता है कि न केवल ब्लौग जगत में बल्कि सम्पूर्ण समाज में नास्तिकों या अज्ञेयवादियों को पापी और दुष्टात्माओं के रूप में ही जाना जाता है.”
माननीय निशांत जी,
वस्तुतः विद्वज्ञ नास्तिकों को सम्मान ही मिलता हैऔर उनकी वैचारिकता पर मनन भी होता है। किन्तु कईं नव-नास्तिकनास्तिकता में द्वेष युक्त अतिक्रमण करते हैचन्दन कुमार मिश्र जी का उदाहरण आपके सामनें है। इस प्रकार के नास्तिक लॉजिक से चर्चा करनें की जगह ईश्वर का अपमानआस्तिकों को मूर्ख आदि कुटिलता का प्रयोग करने लगते है। इनकी यहीं कुत्सित मानसिकता ‘दुष्टात्मा‘ कहलवाने का सबब बनती है। अन्यथा नास्तिकता और वह भी विभिन्न रूपों में समाज में स्वीकृत है।
_____________________
अब एक बात विदेशी भारतीय लोगों के लिए। आपको ऐतराज हो तो जताते रहिए।
भारत में कोई हिन्दी की सौ किताबें लिखे तो कुछ नहीं लेकिन अमेरिका और दूसरे देशों में जाकर एक घटिया किताब भी लिख दे तो सरकार और समाज की नजरों में बड़ा हिन्दी और देश का प्रेमी हो जाता है। ठीक वैसे ही जैसे आप हिन्दी या संस्कृत के महान आचार्य हों तब भी आपकी कोई पूछ नहीं लेकिन दस शब्द जानने वाले अंग्रेजी स्पोकेन कोचिंग चलाने वाले के पास पचास साइकिल तो दिख
ही जाती है।
जैसे भारत में आप की पूछ कोई हो चाहे मत हो लेकिन आप अमेरिका में भोजपुरी सम्मेलन कर लीजिए या पचास लोगों के साथ छठ मना लीजिए तो आप भारत प्रेमी और भारतीय संस्कृति के पुरोधा हो जाते हैं।
_______________________________________________
अब निष्कर्षत: सुनिए। मुझे इन सबने मिलकर अज्ञानी(क्योंकि मैं दिद्वानों की सभा के लायक नहीं यानि हंसराज उर्फ़ सुज्ञ सहित यहाँ आने वाले तमाम लोग खुद को विद्वान घोषित करते हैं)दुष्टदुष्टात्माअहंकारीद्वेष युक्ततानाशाही सोच काधर्मविरोधीधर्महन्ताअति-असहिष्णुउल्लू सीधा करनामौकापरस्तआड़ लेनामेरी बातों को फालतूकायर और कुछ कुछ कहा। और खुद को कहीं दोषी नहीं पाते।
अन्त में इतनी बातें बहुत थीं और समय भी लगा लिखने में। और इसको फिर से देखने की फुरसत मेरे पास नहीं है। इसलिए कुछ गलतियाँ टंकण के दौरान हुई होंगी। उस पर ध्यान न दें।
चलते चलते एक श्लोक:
दुर्जन: परिहर्तव्य: विद्ययालंकृतोSपि सन्।
मणिनाविभूषित: सर्प: किमसौ न भयंकर:॥
घबड़ाइए नहीं। अब नहीं आऊंगा।
Advertisements

देशभक्ति और ग्लोबल सिटिजनशीप

3 टिप्पणियाँ

पहले एक व्यक्ति से आपका परिचय कराते हैं। एक परिचित हैं मेरे। नाम नहीं लूंगा। नेपाल के रहनेवाले हैं। मेरे साथ दो-तीन साल तक पढ़ते रहे हैं। उनका एक बार-बार दुहराया जानेवाल कथन था(शायद अब भी हो)- आई हेट हिन्दी। अंग्रेजी को खूब पसन्द करते हैं। वे हमारे देश के वासी नहीं हैं। इसलिए मुझे उनसे हिन्दी को लेकर ज्यादा बहस नहीं करनी होती है। 
मैंने उन्हें बताया है कि मैं अंग्रेजी के खिलाफ़ एक किताब लिख रहा हूँ। ये बात वे जानते हैं। यहाँ सबसे बड़ा मुद्दा है देशभक्ति और ग्लोबल सिटिजन होने का।
उनका एक मेल आया है मेरे पास। उसके कुछ अंश पढ़िए।
I have no country to fight for, my country is the earth, and I am a citizen of the world. You know Patriotism is a kind of religion, it is the egg from which wars are hatched.It is not for him to pride himself who loveth his own country, but rather for him who loveth the whole world. The earth is but one country and mankind its citizens. I am not a Nepali or Indian, I am a citizen of the world. I believe one day we are the citizen of The Globe. I love my country “The Globe “. I wish one days I will go for the world tour to know more about my Earth.’

बस इसी पर मेरा जवाब मैं यहाँ दे रहा हूँ जो मैंने उन्हें दिया है। बातें तो और भी थीं लेकिन मैं यहाँ उन्हीं अंशों को दे रहा हूँ जिसका उपर की बात से संबंध है।
_______________________________________________________________

कभी गाँधी जी को पढ़ने का मौका मिले तो जरूर पढ़िए। उनके उपर संसार में सबसे ज्यादा किताबें लिखी गई हैं। मैंने आपको या किसी अन्य देश के आदमी को अंग्रेजी के विरोध में आने के लिए नहीं कहा है। बात रही ग्लोब की तो सुनिए।


ग्लोबलाइजेशन ने भारत को कितना नुकसान पहुँचाया है आप शायद सोच भी नहीं सकते। चीन के कब्जे में भारत की लाखों मील जमीन है, पाकिस्तान के कब्जे में काश्मीर का हिस्सा है। अमेरिका इन सबमें बहुत बड़ा दोषी है। मैं चाहता हूँ कि संयुक्त राष्ट्र(UN), अन्तरराष्ट्रीय मुद्रा कोष(IMF), विश्वबैंक(World Bank) आदि सबसे भारत को बाहर निकाल लिया जाए। अमेरिका और कुछ देशों ने भारत सहित लगभग 120 देशों पर(शायद नेपाल भी इसमें शामिल है)जबरदस्त अत्याचार किया है। किसानों के बीज, देश की जमीन, जंगल, नदी, पहाड़, खानें सब पर हक जमाना शुरु किया है। अब यह बताइए कि ग्लोबल के चक्कर में मुझे अपने इस अधिकार का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए कि भारत अमेरिका की गुलामी से आजाद हो। नेताओं, अमीर उद्योगपतियों और आफिसरों की बात बिलकुल बेकार है। मैं इन सबके बारे में कुछ कहना नहीं चाहता। आप सोच नहीं सकते भारत की हालत इंग्लैंड ने बनाई है। कैसे-कैसे कानून बनाए हैं और वे अभी तक चल रहे हैं। आप पहले से जानते हैं कि विश्व का नागरिक(वर्ल्ड सिटिजन)वास्तव में कोई नहीं हो सकता जब तक सारे देश चैन और शान्ति से नहीं रहने लगें। आपके घर का हरेक सदस्य मौत से जूझ रहा हो तो आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि आपका घर या आप खुश या शान्ति से रहेंगे। यह एक संयोग है कि आप भारत के नहीं हैं वरना आप ऐसा नहीं सोचते। हर साल भारत से आठ-दस लाख करोड़ से ज्यादा विदेशी चोर लूट कर ले जाते हैं। आप यह नहीं कह सकते जिसके पास ताकत है वह बलवान है और वही राज करेगा। क्योंकि इंग्लैंड आज से पाँच सौ साल पहले भूख से मरता था। अगर आप चाहते हैं कि आपके कालेज का हर छात्र मेधावी हो तो सबको अच्छे नंबरों से पास होना होगा। ऐसा नहीं हो सकता कि एक लाए दस, दूसरा लाए बीस और हजार लड़कों में दो-चार लोग साठ-सत्तर नंबर ला दें और आपका कालेज अच्छा हो जाए। कौन आदमी अशान्ति चाहता है। आपओ सुनकर अजीब लगेगा कि मैं अहिंसा को मानते हुए भी अमेरिका, फ्रांस, पुर्तगाल, इंग्लैंड, चीन और पाकिस्तान से युद्ध करने के पक्ष में हूँ लेकिन अभी नहीं। पहले खुद को ताकतवर बनाना पड़ेगा। आप भारत का इतिहास जानना चाहते हों तो बताऊंगा कि कैसे इन विदेशी चोरों ने भारत पर शासन किया। एक प्रतिशत भी ईमानदार और अच्छे लोग नहीं थे अमेरिका और इंग्लैंड में। आपको बता दें कि 1984 में भोपाल गैस कांड में एक ही रात में 17000 लोग एक अमेरिकी के चलते मर गए और वह जिसके कारण यह सब हुआ आज भी घूम रहा है। न तो अमेरिका ने कोई सजा दी न और किसी ने। जलियाँवाला बाग, विठूर जैसे कारनामे ने देश के लाखों की जान ली। क्या आप इतने गौरवशाली इतिहास के हिस्से में रहे हैं जहाँ 19 साल का खुदीराम फाँसी चढ़ता हो, भगतसिंह से लेकर एक-दो नहीं लगभग दस लाख क्रान्तिकारियों को मौत मिली इन अंग्रेजों के कारण। इनका दोष इतना ही तो था कि ये अपने देश में, अपने घर में अपना हक चाहते थे। क्या यह कहीं से गलत है?


*

हिटलर, चंगेज खाँ, सिकन्दर, नेपोलियन, मुसोलिनी सब आप जैसा ही ग्लोब बनाना चाहते थे और सब असफल हुए। और होते रहेंगे। सिकन्दर आप जानते हैं कि दुनिया के सब हिस्सों को जीतता हुआ भारत में हार गया था। वरना आप भी अभी तक गुलाम होते। जब अंग्रेजों के अत्याचार आप पढ़ेंगे तो आप खुद समझेंगे कि दुष्टों के साथ क्या करना चाहिए।


देशभक्ति धर्म है, ऐसा आप मान रहे हैं। मुझे इस बात से कोई खास मतलब नहीं। क्योंकि कुछ लोग मुझे नास्तिक कहते हैं और कुछ नहीं। क्योंकि फिलासफी में एक अलग सिद्धान्त है जिसके तहत मैं नास्तिक नहीं अज्ञेयवादी या संशयवादी हूँ। विवेकानन्द के अनुसार मैं आस्तिक हूँ। वेदों के अनुसार में आस्तिक हूँ। लोगों के अनुसार नास्तिक हूँ। अपनी-अपनी परिभाषाएँ हैं , अपने अपने अर्थ हैं। विस्तार से इसपर चर्चा मेल से संभव नहीं है। यूटोपिया समझते हैं? वर्ल्ड सिटिजन होना एक यूटोपियन बात है। संसार को मैं भी एक मानना चाहता हूँ लेकिन जब मेरे दोनों पैर बराबर होंगे तो कोई कुछ नहीं कहता है लेकिन एक पैर दो फुट का और दूसरा चार फुट का हो तो कोई मुझे बिना आश्चर्य के नहीं देखेगा। समानता आवश्यक है और उसी के लिए मैं लड़ना चाहता हूँ। खेत में नयी फसल बोने के लिए पुरानी फसल को काटकर साफ करना पड़ता है। लेकिन जब तक पुरानी फसल है, नये की बात बेकार है, मूर्खता है। यूटोपिया ही है विश्व का नागरिक होना। मैं अपनी लड़ाई शुरु कर रहा हूँ अंग्रेजी के खिलाफ़ चलकर।


जिस ग्लोबलाइजेशन के गुण आप गा रहे हैं। उसका एक उदाहरण देता हूँ। भारत में बहुत सुंदर कालीन बनता था। बाद में अमेरिका ने उसे खरीदने से मना कर दिया। कारण बताया कि कालीन बनाने में चौदह साल से कम के बच्चे लगे हैं, यह मानव अधिकार के खिलाफ़ है। लेकिन वही अमेरिका अपने यहाँ दस-बारह साल के बच्चों को अखबार बेचने में लगा देखता है तो कहता कि वह बच्चा स्वावलम्बी( self dependent) है। क्या यही है ग्लोबलाइजेशन? नहीं ये ठगी है। आप चाहें तो सारी रिपोर्ट देख लें। विश्व बैंक की या किसी की। विदेशी कम्पनियाँ भारत और सारे दूसरे देशों को लूट रही हैं। इनको भगाना होगा और मैं इसके खिलाफ़ भी खड़ा होऊंगा। विदेशी कम्पनियों के चलते देश में आप सोच नहीं सकते हैं कितनी बेरोजगारी बढ़ी है। कम से कम आठ-दस करोड़ लोग इन विदेशी कम्पनियों के चलते बेकार हैं। कोई फायदा नहीं देती ये विदेशी कम्पनियाँ। यह नहीं कहिएगा कि रोजगार देती हैं। यह बहुत बड़ा झूठ है। मैं इसपर बाद में कभी चर्चा करूंगा। अमेरिका या अन्य देश अगर ग्लोबलाइजेशन चाहते हैं तो उन्हें दूसरे देशों को भी छूट देनी होगी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। खुद छूट लिया है और दूसरों को दिया नहीं। जब जब भारत हारा वजह अमेरिका बनता आया है। आप अमेरिका से भारत का सारा समझौते देख सकते हैं। सिर्फ़ चालबाजी है। आप खुद देखिए कि अमेरिका के पास परमाणु हथियारों की संख्या 20 हजार से ज्यादा है लेकिन भारत पर वह दबाव डालता रहा कि भारत परमाणु हथियार नष्ट कर दे जबकि भारत के पास मात्र 100-200 ही हैं। यही है ग्लोबलाइजेशन। नहीं। अमेरिका अब दुनिया पर राज करना चाहता है और उसे ग्लोबलाइजेशन के नाम से लोगों को ठगता आ रहा है। क्या आप जानते हैं कि इसी ग्लोबलाइजेशन के चलते ब्राजील और कोरिया जैसे देश बरबाद हो गए। धीरे-धीरे भारत बरबाद होगा, नेपाल बरबाद होगा। इससे पहले आपको सामने आना होगा, लड़ना होगा।


भारत में 90 करोड़ लोगों की आमदनी 20 रूपये से भी कम है प्रतिदिन। हर दिन सात हजार लोग भूख से मर जाते हैं यहाँ, किसान आत्म-हत्याएँ कर रहे हैं, देश में 25 लाख लोग हर साल भूख से मर रहे हैं। लेकिन जिन लोगों को ग्लोब, अमीरी, सुख दिखाई देता है वे सब चोर हैं। एक अमर सिद्धान्त है कि अमीरी का पहला चरण है चोरी। यह बात एकदम सच है। मैंने जान लिया और महसूस भी कर लिया है। 120 करोड़ लोग हैं भारत में और 100 करोड़ लोग कैसी जिंदगी जी रहे हैं। अब जो आदमी इतनी समस्याओं के बावजूद ग्लोब, अमीरी, विदेश देखता हो मैं तो उसे मानवता का ही दुश्मन समझता हूँ। यह सोच ही मनुष्य के लिए कलंक है कि आपके देश में इतनी खराब स्थिति है और आप ग्लोब देखने में लगे हैं। ग्लोब को तब देखिए जब आपकी हालत औरों जैसी हो जाए। अभी दुनिया के सिर्फ़ 50 देश ठीक-ठाक हैं। आपको मैं गारंटी देता हूँ कि कम से कम पाँच सौ साल लगेंगे सब को ठीक होने में और तब तक ग्लोब और वर्ल्ड सिटिजन की बात बेकार है। यह सच है और आप इससे भाग नहीं सकते। आप अच्छी तरह जानते हैं कि सिर्फ़ अपने लिए जीना कितनी घटिया बात है। 


देश इसलिए महत्वपूर्ण है कि आपके चैन से जीने के लिए, आपकी आजादी के लिए करोड़ों लोगों ने दुख सहे हैं, लाखों ने अपनी जान दी हैं, लाखो जेल गए हैं। अगर आपमें इंसानियत है तो क्या आप उन सबके अहसानमंद नही हैं। देश किसी ने बाँटा नहीं है, प्रकृति ने खुद बाँटा है। संसार में हर कोई अपनी पहचान चाहता है, ठीक उसी तरह देश की पहचान भी होनी चाहिए। आपका नाम क्या है? यह भी एक पहचान है। आपका घर क्या है? यह भी एक खास हिस्से का नाम है और आपकी पहचान के लिए है। जब संसार के सब लोग शान्त, सुखी हो जाएँ तब ग्लोब और वर्ल्ड सिटिजन की बात आती है। पहले नहीं। इसलिए कहा कि यूटोपिया है। बहुत सारी बातें आप खुद ही समझ सकते हैं क्योंकि पिछले चार साल से आप मुझे जानते हैं।


रफी का सिर्फ एक ही पूरक है वह है -रफी

टिप्पणी करे

मनुष्य का जन्म दर्द से ही शुरु होता है। माता की प्रसव पीड़ा के साथ ही एक मनुष्य का आगमन इस संसार में होता है। शायद मनुष्य की दर्द पहली अनुभूति है। इसलिए ही कहा जाता है कि कविता से संगीत तक सभी का जन्म दुख या दर्द से ही हुआ है। संगीत में सबसे अहम स्थान है आवाज। सबसे पहले आदमी ने गाना शुरु किया होगा। इसके बाद ही तरहतरह के वाद्य-यंत्र आए। सिर्फ़ आवाज के साथ यानि बिना वाद्य-यंत्रों के या सिर्फ एक ही वाद्य-यंत्र की सहायता से सबसे ज्यादा गाने गाने वालों में रफी शायद पहला नाम है।


गाना चाहे प्रेम का हो चाहे देश के लिए रफी का सिर्फ एक ही पूरक है वह है -रफी। रफी मतलब एक पूरा संसार। आवाज का एक बहुत ही करुण, अद्भुत और असीम संसार। मैं कुछ गानों का उल्लेख करुंगा जिससे पता चलता है कि रफी की आवाज का मतलब क्या होता है? बात दर्द से शुरु हुई है तो पहले दर्द भरे गीतों को ही लेते हैं।
ये दुनिया नहीं जागीर किसी की‘, ‘ग़म उठाने के लिए मैं तो जिये जाउँगा‘, ‘खिलौना जानकर तुम तो मेरा दिल तोड़ जाते हो‘, ‘खुश रहे तू सदा ये दुआ है मेरी‘, ‘आज की रात मेरे दिल की सलामी ले ले‘, ‘रहा गर्दिशों में हरदम मेरे इश्क़ का सितारा‘, ‘नसीब में जिसके जो लिखा था‘, ‘भरी दुनिया में आखिर दिल को समझाने कहां जाएं‘, ‘इस भरी दुनिया में कोई भी हमारा न हुआ‘, ‘क्या से क्या हो गया बेवफा तेरे प्यार में‘, मशहूर विदाई गीत बाबुल की दुआएँ लेती जा‘, ‘पैसे की पहचान यहां इंसान की कीमत कोई नहीं‘, ‘क्या मिलिए ऐसे लोगों से जिनकी फितरत छुपी रहे‘, ‘आया रे खिलौनेवाला खेल खिलौने लेके आया रे‘, ‘अगर बेवफा तुझको पहचान जाते‘, ‘हम तुम से जुदा होके मर जायेंगे रो-रो के‘, ‘कभी खुद पे कभी हालात पे रोना आया‘, ‘मेरी कहानी भूलने वाले‘, ‘टूटे हुए ख्वाबों ने‘, ‘ ये जिंदगी के मेले‘, ‘इक दिल के टुकड़े हजार हुए‘,’ चलो रे डोली उठाओ कहार‘, ‘मेरे दोस्त किस्सा ये क्या हो गया‘, ‘दिल का सूना साज‘, ‘अपनों को जो ठुकराएगाजैसे गानों को सुनने के बाद जीवन संगीत हो जाता है।
विशेष रूप से प्यासा का गाना ये महलों ये तख्तों ताजों की दुनियातो प्यासा को सचमुच शानदार फिल्म से दुबारे और शानदार बना देता है। ये सारे गाने लिखने वालों ने भी डूबकर लिखा है।
अब बात अगर देशभक्ति गानों की नहीं करें तो रफी साहब को महसूस करने में एक अजीब अधूरापन लगने लगेगा।
एक बात ध्यान देने लायक है कि भारत में जो भी देशभक्ति गाने प्रसिद्ध हैं उन्हें गाने वाले रफी, महेन्द्र कपूर, मन्ना डे, प्रदीप, हेमंत कुमार, मुकेश और लता मंगेशकर के अलावा और कोई है, यह खयाल ही नहीं आता। अभिनेता की बात करें तो सिर्फ दो चेहरे याद आते हैं- पहला दिलीप कुमार और दूसरा मनोज कुमार उर्फ भारत कुमार।
बात रफी साहब की हो रही है तो उनके गाये देशभक्ति गाने हैं- शहीद(1948) कावतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो‘, नया दौर(1957) का ये देश है वीर जवानों का‘ , शहीद(1965) का दो बार गया ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी और कसमऔर सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है‘, सिकंदर-ए-आजम(1965) का जहां डाल-डाल पर सोने की चिडियां करती हैं बसेरा‘, देशप्रेमी(1982) का मेरे देशप्रेमियों आपस में प्रेम करो देशप्रेमियोंअभी मुझे याद आ रहे हैं।
अब विशेष रूप से ऐ वतन ऐ वतन जो भगतसिंह वाली फिल्म शहीद में गाया गया, उसके बारे में। इस गाने अलगअलग शब्दों में दो बार फिल्म में गाया गया था। वैसे तो रफी हर गाना ही दिल को चीर कर गाते हैं लेकिन दूसरा गाना तो रफी साहब ने ऐसा गाया है मानो अपना कलेजा निकाल कर ही रख दिया है। इस गाने को सुनकर पत्थर क्या अगर भगवान सचमुच होता तो जरुर पिघल जाता। अगर आप शहीदों की सच्ची आवाज सुनना चाहते हैं तो मैं आपसे आग्रह करता हूं इस गाने को जरुर सुनें, आप समझ सकेंगे कि रफी किस गायक को कहा जाता है। जो कहते हैं कि संगीत मनोरंजन के लिए है उनको ये गाना सुनकर पता चल जायेगा कि संगीत और शहीद कैसे एक दूसरे में विलीन हो गए हैं। इस गाने की लय और रफी साहब की आवाज ही नहीं इसका एकएक शब्द हमारे वेदों-पुराणों से बहुत ज्यादा महत्व रखता है। ऐसेऐसे गायक, गीतकार, संगीतकार हमारे देश में हुए हैं जिन्होंने कुछ पलों को बिल्कुल जिंदा ही कर दिया है। ऐसे लोगों में रफी साहब को भूल ही कौन सकता है।
अब चलते-चलते इस अमर गायक के गाये हुए उसी अमर गाने की वो कड़ियां जो आपको गुनगुनाने के लिए दे रहे हैं जो आपको कहीं-न-कहीं मजबूर कर देंगी……
तू न रोना, कि तू है भगतसिंह की माँ
मर के भी लाल तेरा मरेगा नहीं
घोड़ी चढ़के तो लाते है दुल्हन सभी
हँसके हर कोई फाँसी चढ़ेगा नहीं
इश्क़ आजादी से आशिक़ों ने किया
देख लेना उसे हम ब्याह लायेंगे
ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम
तेरी राहों मैं जां तक लुटा जायेंगे
ऐ वतन ऐ वतन
जब शहीदों की अर्थी उठे धूम से
देशवालों तुम आँसू बहाना नहीं
पर मनाओ जब आज़ाद भारत का दिन
उस घड़ी तुम हमें भूल जाना नहीं
लौटकर आ सके ना जहां में तो क्या
याद बन के दिलों में तो आ जायेंगे
ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम
तेरी राहों मैं जां तक लुटा जायेंगे
ऐ वतन ऐ वतन